Connect with us

Motivational

Monday Motivation Quotes in Hindi | सुप्रभात सुविचार हिंदी…!

Monday Motivation Quotes in Hindi

आत्म सम्मान (Monday Motivation Quotes in Hindi) एक ऐसा अहसास है जो हमारे व्यक्तित्व को उबारता है। आत्म सम्मान (Self Respect) से हमारी स्वयं के प्रति जिम्मेदारियों का पता चलता है। आत्म सम्मान (Self Respect) एक ऐसा भाव है जिससे स्वयं की ओर सकारात्मकता का भाव उत्पन्न होता है।

आत्मसम्मान से हमें अपनी स्वयं के प्रति अहमियत का भी पता चलता है और जिंदगी में आत्म सम्मान का होना बेहद जरूरी है। आज की हमारी पोस्ट में हम Self Respect की बात करेंगे। Self Respect से जुड़े Quotes भी आपको हमारी पोस्ट में मिलेंगे।

आत्मसम्मान क्या है? (What is Self Respect)

अगर आत्मसम्मान (Self Respect) का सरल अर्थ समझे तो इसका मतलब है कि स्वयं यानि खुदका सम्मान करना और स्वयं को समझना। आत्मसम्मान के लिए बेहद आवश्यक है आत्मविश्वास का होना क्योंकि आत्म-विश्वास से ही हमें स्वयं पर भरोसा करने की प्रेरणा मिलती है। स्वयं के महत्व को जानना बहुत ज़रूरी है क्योंकि इस भीड़ भरी दुनिया में हम भूल ही चुके हैं कि हमारा स्वयं के प्रति भी कुछ फर्ज है। अपना ख्याल रखना और स्वयं का ध्यान रखना बेहद जरूरी है। जो व्यक्ति स्वयं का सम्मान करता है उसे ही समाज से सम्मान प्राप्त होता है।

उदाहरण के लिए  यदि एक ऑफिस में एक व्यक्ति काम करता है और उसका बॉस  यदि उसे निरंतर नकार देता है या डांटता है तथा उसके बावजूद भी यदि वो फिर भी अपने इस अपमान का जवाब नहीं देता है तो इसे उसके साथ काम कर रहे लोगों पर भी नकारात्मक प्रभाव पड़ता है और वह भी उस व्यक्ति का सम्मान करना छोड़ देते हैं इसलिए आवश्यक है अपने आत्मसम्मान (Self Respect) की रक्षा करना और अपने आत्मसम्मान के लिए हमेशा आवाज उठाना।

ताकि आपके खिलाफ कोई नकारात्मक दृष्टि से न देखें। अपने आत्मसम्मान के प्रति सकारात्मक भाव रखना उतना ही महत्वपूर्ण जितना कि मन की शांति और मन की शांति तभी संभव है जब आप खुद को खुश रखना जानते हों।

अगर किसी व्यक्ति के आत्मसम्मान को ठेस पहुंचाई जाती है तो वह बहुत अपमानित महसूस करता है और उसमें बदले की भावना जाग जाती है परंतु यह चीज सही नहीं है क्योंकि खुद के अहंकार पर काबू होना भी बेहद जरूरी है। अहंकार व्यक्ति में आत्मविश्वास की कमी लाता है। यदि अहंकार में आकर कोई ग़लत क़दम उठाया जाए तो समाज भी आपकी कदर करना छोड़ देता है। इसलिए कभी भी ऐसा फैसला न ले जिससे आपके आत्मसम्मान में कमी आएं। अपने प्रति स्वयं के महत्व को समझें।

आत्मसम्मान कैसे बढ़ाएं ?(How to Gain Self Respect)

आत्म सम्मान जितना प्रबल होगा हमारी जिंदगी में शांति और सुख का भाव उतना ही ज्यादा होगा। आत्म सम्मान से एक नई ऊर्जा का संचार हमारी जिंदगी में होता है। आत्म सम्मान के बल पर ही हम अपना अस्तित्व बनाते हैं और बिगाड़ते भी है। इसलिए जरूरी है कि आप ऐसी क्रियाएं करें जिससे आपका आत्म सम्मान बढ़े न कि आपके आत्मसम्मान में कमी आए। हमारी पोस्ट Self Respect Quotes in Hindi से आप अच्छे तरीके जान सकेंगे जिससे आपकी आत्मसम्मान में वृद्धि होगी।

1. अपनी ताकत को पहचाने (Know Your Ability)

आपके अंदर क्या गुण है यह तो आप ही जानते है परंतु यदि आप अपनी शक्तियों को नहीं जानते तो आप अपने रिश्तेदारों और दोस्तों से मिले जो आपको आपके गुणों के प्रति सचेत करेंगे और बताएंगे कि आप किन‌ कामों में ज्यादा कुशल है। जब आपको इन सब बातों का अनुभव हो जाएं तो उस पर ध्यान दें और अपने आत्मसम्मान को बढ़ाए।

2. सकारात्मक (Positivity )

जीवन के प्रति आशा और सकारात्मकता का भाव ही सफलता की कुंजी है। आत्म सम्मान इस बात पर भी निर्भर करता है कि आप अपने जीवन में आई परेशानियों और दिक्कतों से कैसे निपटते हैं। एक सकारात्मक भाव ही आत्म सम्मान को दृढ़ बनाता है। यदि आप मुश्किलों को देखकर दुखी हो जाते हैं तो यह आपके आत्मविश्वास की कमी को दर्शाता है और इससे लोग भी आपको कमजोर समझते हैं और आपके अंदर आत्मसम्मान की कमी को पाता है

वहीं दूसरी तरफ जो व्यक्ति परेशानियों के प्रति भी सकारात्मक भाव रखता है और उसका हल अपनी सूझबूझ से निकालता है तो ऐसे में लोग उस व्यक्ति को मानसिक रूप से मजबूत मानते हैं तथा उसके प्रति सम्मान की भावना से भी देखते हैं। इसलिए जिंदगी में सकारात्मक परिवर्तन लाए ताकि समाज भी आपकी तरफ सम्मान की दृष्टि से देखें।

3. अच्छी नींद का लेना आवश्यक (Good Sleep Is important)

आत्मसम्मान की वृद्धि के लिए आवश्यक है अच्छी नींद का होना। यदि आप सही समय पर सोते हैं तो आप मानसिक तथा शारीरिक दोनों रूप से स्वस्थ रहते हैं। इसलिए आप अपना आहार संतुलित रखें तथा भोजन के दौरान टीवी तथा मोबाइल इत्यादि चीजों से दूर रहें।

4. पहनावा (Wearing Style)

पहनावा ही आपके व्यक्तित्व को दर्शाता है। यदि पहनावे आपके शारीरिक रूप और रंग के अनुरूप नहीं हो तो आप में आत्मविश्वास की कमी आ जाती है क्योंकि उस पहनावे पर आपको काफी नकारात्मक कमेंट मिलते हैं जिससे आपके आत्मसम्मान को ठेस पहुंचती है। इसलिए जरूरी है कि आप अपनी शारीरिक प्रकृति के अनुसार वस्त्र धारण करें इससे आपको भी अच्छा लगेगा और आपके ईदगिर्द लोग भी आपके पहनावे की प्रशंसा करेंगे जिससे आपमें आत्मसम्मान की भावना उजागर होगी।

Hindi Monday Motivation Quotes

“तिनका हूँ तो क्या हुआ, वजूद है मेरा भी, उड़ उड़ कर हवा का रुख तो बताता हूँ।” 

 

“एक अलग ही पहचान बनाने की आदत है मेरी, तकलीफों में भी मुस्कुराने की आदत है मेरी।” 

 

“यह जिंदगी है साहब ! बिखरेंगे नहीं तो निखरेंगे कैसे ?।” 

 

“तारीफ खुद की करना फिजूल है, खुशबू खुद ही बता देती है कौन सा फूल है।” 

 

“खोकर पाने का मजा ही कुछ और है,
रोकर मुस्कुराने का मजा ही कुछ और है।
हार तो जिंदगी का हिस्सा है मेरे दोस्त,
हार कर जीत जाने का मजा ही कुछ और है।” 

 

“सीने से लगा लगा के, तुमको ये कहना हैं, मैं बस तुम्हारा हूँ, और अब तेरा होके रहना हैं।” 

 

“सारे सबक किताबों में नहीं मिलते यारो, कुछ सबक जिंदगी भी सिखाती है।” 

 

“जब आंखों में अरमान लिया,
मंजिल को अपना मान लिया।
है मुश्किल क्या आसान क्या,
जब ठान लिया तो ठान लिया।” 

 

“अच्छे व्यवहार का आर्थिक मूल्य भले ही ना हो, लेकिन अच्छा व्यवहार करोड़ो दिलों को खरीदने की ताकत रखता है।” 

 

“बेहतर से बेहतर की तलाश करो,
मिल जाए नदी तो समंदर की तलाश करो।
टूट जाता है शीशा पत्थर की चोट से,
टूट जाए पत्थर ऐसा शीशा तलाश करो।” 

 

“किसी को भी उसकी मनचाही चीज़ उस समय तक नहीं मिल सकती, जब तक वह उसे पाने के योग्य नहीं होता।” 

 

“कई जीत बाकी है कई हार बाकी है,
अभी तो जिंदगी का सार बाकी है।
यहां से चले हैं नई मंजिल के लिए,
यह तो एक पन्ना था अभी तो पुरी किताब बाकी है।” 

 

“एक हारा हुआ इंसान हारने के बाद भी स्माइल करे तो जीतने वाला अपनी जीत की खुशी खो देता है।” 

 

“आपको केवल अपने आत्मसम्मान की परवाह नहीं करनी चाहिए,
बल्कि आपकी वजह से दूसरे व्यक्ति के आत्मसम्मान को ठेस नहीं पहुंचानी चाहिए,
आपको हमेशा इस बात का भी ध्यान रखना चाहिए।” 

 

“नई शुरुआत की सबसे अच्छी बात यह है कि आप उसे कभी भी शुरू कर सकते है।” 

 

“कोई तेरे साथ नहीं तो भी गम ना कर दुनिया में खुद से बढ़कर कोई हमसफ़र नहीं होता।” 

 

“मेरे बारे में कोई राय मत बनाना मेरे दोस्त क्योंकि मेरा वक़्त भी बदलेगा और तेरी राय भी।” 

 

Final Words:-

जिंदगी के हर मोड़ पर चाहे वो आपके लिए नया बदलाव लाएं या दुख का पहाड़ पर आपको अपने आत्मसम्मान की रक्षा सदैव ही करनी है। किसी का नजरिया आपके प्रति कैसा भी आप एक अलग पहचान रखते हैं और आपमें हर कार्य करने की क्षमता है बस इस विश्वास को लेकर अपने साथ चले और अपने आत्मसम्मान (Self Respect) को कम न होने दें।

अपने प्रति अपने व्यवहार को समझें और अपनी मन की शांति और सकारात्मकता का भाव रखें। आत्मसम्मान से आपके व्यक्तित्व का निर्माण होगा और समाज के लोग आपको सम्मान के भाव से देखेंगे। यह कथन सदैव याद रखे।

 

इन्हें भी जरूर पढ़े:-

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Advertisement