Connect with us

Chalisa

लक्ष्मी चालीसा: Laxmi Chalisa, Aarti, Pooja Vidhi, Path, Lyrics, Benefits in Hindi 

Laxmi Chalisa Lyrics in Hindi

धन और वैभव की देवी कही जाने वाली माता लक्ष्मी की आरती व Laxmi Chalisa (लक्ष्मी चालीसा) के नियमित पाठ से ना केवल आपके घर में, धन का आगमन होता है बल्कि साथ ही साथ आपके पूरे परिवार में, सुख-शांति और समृद्धि का स्थायी वास होता जिससे आप बेहतर ढंग से अपने जीवन को जी पाते है और अपना व अपनो के उज्जवल भविष्य का निर्माण कर पाते है और इसी उद्धेश्य से हम, इस आर्टिकल में, आप सभी को विस्तार से लक्ष्मी चालीसा का सम्पूर्ण पाठ उपलब्ध करवायेंगे।

चारों तरफ बेरोजगारी की समस्या फैली हुई है जिसकी वजह से हमारे नव-युवको व युवतियों में, घोर निराशा का माहौल देखा जा रहा है इसका एक कारण ये भी है कि, कहीं ना कहीं वे अपने आध्यात्मिक कर्तव्यों व दायित्वों का सही तरह से निर्वाह नहीं कर रहे है और इसीलिए हम, अपने सभी नव-युवकों व युवतियों को हितकारी सलाह देंगे कि, उन्हें नियमित रुप से धन व वैभव की देवी, माता लक्ष्मी की नियमित रुप से आरती व लक्ष्मी चालीसा का पाठ करना चाहिए।

देवी लक्ष्मी, को मूल तौर पर धन और वैभव की देवी माना जाता है जिनकी महिमा अपरमपार है क्योंकि धन-धान्य व वैभव की देवी लक्ष्मी की वंदना करने वाले, आरती व पूजा-पाठ करने वाले और साथ ही साथ प्रति शुक्रवार लक्ष्मी चालीसा का पाठ करने वाले भक्तजनों को कभी भी रुपयों की कमी नहीं होती है क्योंकि माता लक्ष्मी स्वयं उनके घर में,वास करती है। 

यहां पर हम, आपको ये भी बताते चलें कि, देवी लक्ष्मी की आराधना से भक्तो को धन व वैभव की प्राप्ति तो होती ही होती है साथ ही साथ उन्हें सुख, शांति, समृद्धि, बुद्धि और विवेक की भी प्राप्ति होती है। अन्त, इसी उद्धेश्य से हमारा ये पूरा आर्टिकल धन व वैभव की देवी लक्ष्मी पर आधारित होगा जिसमें हम, अपने सभी भक्तजनों को विस्तार से माता लक्ष्मी की आराधना को समर्पित सम्पूर्ण लक्ष्मी चालीसा प्रस्तुत करेंगे ताकि हमारे सभी भक्तजन नियमित रुप से व विशेषकर शुक्रवार के दिन लक्ष्मी चालीसा का पाठ कर सकें और व अपनो के उज्जवल और सम्पन्न भविष्य का निर्माण कर सकें क्योंकि यही हमारा लक्ष्य है। 

Lakshmi Chalisa Ke Fayde: लक्ष्मी चालीसा के फायदें

वैसे तो आप सभी भली-भांति जानते ही है कि, Laxmi Chalisa (लक्ष्मी चालीसा) का नियमित व विशेषकर शुक्रवार के दिन पाठ करने से कितना और क्या-क्या फायदा होता है लेकिन फिर भी हम, कुछ बिंदुओँ की मदद से आप सभी को विस्तार से लक्ष्मी चालीसा के नियमित पाठ करने से प्राप्त होने वाले फायदों के बारे में, बताना चाहते है जो कि, इस प्रकार से हैं:–

  1. लक्ष्मी चालीसा का नियमित पाठ करने से भक्तजनों को धन व वैभव की अपार प्राप्ति होती है,
  2. लक्ष्मी चालीसा का पाठ करने वाले भक्तों के घरो में, रिद्धि-सिद्धि का वास होता है,
  3. माता लक्ष्मी की आराधना स्वरुप लक्ष्मी चालीसा का पाठ करने वाले भक्तो के घरो में, सुख-शांति व समृद्धि का स्थायी वास होता है,
  4. हमारे जो भी व्यवसायी या बिजनैस-मैन नियमित रुप से लक्ष्मी चालीसा का पाठ करते हैं उन्हें उनके व्यवसास व व्यापार में, अपार सफलता व धन की प्राप्ति होती हैं,
  5. शुक्रवार को माता लक्ष्मी का पवित्र दिन माना जाता है और इस दिन नियमित रुप से लक्ष्मी चालीसा का पाठ करने से निश्चित तौर पर आपको अपार धन और वैभव की प्राप्ति के साथ ही साथ घर में, सुख व शांति की प्राप्ति भी होती है।

Benefits of Shri Lakshmi Chalisa: उपरोक्त बिंदुओँ की मदद से हमने अपने सभी भक्तजनों को विस्तार से लक्ष्मी चालीसा के नियमित पाठ करने से प्राप्त होने वाले लाभों के बारे में बताया ताकि हमारे अन्य भक्तजनों के साथ ही साथ आप भी आज से लक्ष्मी चालीसा का पाठ करके धन व वैभव की प्राप्ति कर सकें।

लक्ष्मी चालीसा का महत्व क्या है?

अब हम, माता लक्ष्मी की महिमा को समर्पित Laxmi Chalisa (लक्ष्मी चालीसा) के नियमित पाठ के गुणकारी, कल्याणकारी और वैभवकारी महत्व को कुछ बिंदुओँ की मदद से उजागर करेंगे जो कि, इस प्रकार से हैं:-

  • लक्ष्मी चालीसा के पाठ से होती है धन और वैभव की प्राप्ति

लक्ष्मी चालीसा के नियमित पाठ का सबसे बड़ा महत्व तो यही है कि, जब हम और आप नियमित रुप से लक्ष्मी चालीसा का पाठ करते हैं तो इससे माता लक्ष्मी खुश होती है और फलस्वरुप हमें, धन व वैभव का आर्शीवाद देती है जिससे हमें, अपना धन और वैभव की प्राप्ति होती है।

  • सुख-समृद्धि में, वृद्धि-दायक होता है लक्ष्मी चालीसा का पाठ

यदि आप चाहते है कि, आपके घर-संसार में, सदा सुख-शांति व समृद्धि का वास रहें और आपके परिवार में, हमेशा खुशहाली बनी रहें तो इसके लिए आपको माता लक्ष्मी की नियमित रुप से वंदना व आराधना करनी होगी जिसके लिए आपको नियमित रुप से लक्ष्मी चालीसा का पाठ करना होगा जिससे ना केवल आपको घन व वैभव की प्राप्ति होगी बल्कि साथ ही साथ घर में, सुख-शांति व समृद्धि का भी वास होगा।

  • व्यवसाय व व्यापार में, अपार तरक्की का स्रोत है लक्ष्मी चालीसा

यदि आप कोई नया व्यवसाय या व्यापार शुरु करना चाहते है या फिर पहले से किसी व्यवसाय व व्यापार में, लम्बे समय से कार्य कर रहे है लेकिन धन व सफलता की प्राप्ति नहीं हो रही है तो आपको समझ जाना चाहिए कि, कहीं कुछ छूट रहा है अर्थात् कहीं ना कहीं आप माता लक्ष्मी का आराधना करने से चूक रहे है।

इसीलिए आपको अपने व्यवसाय व व्यापार में, तरक्की व सफलता प्राप्त करने के लिए नियमित रुप से लक्ष्मी चालीसा का पाठ करना चाहिए।

  • शुक्रवार के दिन लक्ष्मी चालीसा के पाठ से होता है निश्चित तौर पर धन व वैभव की प्राप्ति

शुक्रवार का दिन माता लक्ष्मी का दिन माना जाता है और इस दिन उनकी आराधना-वंदना अर्थात् लक्ष्मी चालीसा का पाठ करने से माता लक्ष्मी अति-प्रशन्न होती है और अपने भी भक्तजनों को धन, वैभव, ज्ञान, विवेक और सुख-समृद्धि का आर्शीवाद देती है।

उपरोक्त बिंदुओँ की मदद से हमने अपने सभी भक्तजनों को लक्ष्मी चालीसा के पाठ के महत्व से परिचित करवाया।

लक्ष्मी चालीसा का पाठ हिंदी में

आइए अब हम, अपने सभी भक्तो की भारी मांग पर आपको लक्ष्मी चालीसा का सम्पूर्ण पाठ प्रदान करें जो कि, इस प्रकार से हैं:-

“माँ के चरणों में शीश हमेशा झुकी रहे।
महालक्ष्मी की कृपा हमेशा बनी रहे।।”

।। दोहा ।।

मातु लक्ष्मी करि कृपा करो हृदय में वास।
मनोकामना सिद्ध कर पुरवहु मेरी आस।।

सिंधु सुता विष्णुप्रिये नत शिर बारंबार।
ऋद्धि सिद्धि मंगलप्रदे नत शिर बारंबार टेक।।

।। सोरठा ।।

यही मोर अरदास, हाथ जोड़ विनती करुं।
सब विधि करौ सुवास, जय जननि जगदंबिका ।।

।। चौपाई ।।

सिन्धु सुता मैं सुमिरौं तोही। ज्ञान बुद्धि विद्या दो मोहि।।

तुम समान नहिं कोई उपकारी। सब विधि पुरबहु आस हमारी।।

जै जै जगत जननि जगदम्बा। सबके तुमही हो स्वलम्बा।।

तुम ही हो घट घट के वासी। विनती यही हमारी खासी।।

जग जननी जय सिन्धु कुमारी। दीनन की तुम हो हितकारी।।

विनवौं नित्य तुमहिं महारानी। कृपा करौ जग जननि भवानी।

केहि विधि स्तुति करौं तिहारी। सुधि लीजै अपराध बिसारी।।

कृपा दृष्टि चितवो मम ओरी। जगत जननि विनती सुन मोरी।।

ज्ञान बुद्धि जय सुख की दाता। संकट हरो हमारी माता।।

क्षीर सिंधु जब विष्णु मथायो। चौदह रत्न सिंधु में पायो।।

चौदह रत्न में तुम सुखरासी। सेवा कियो प्रभुहिं बनि दासी।।

जब जब जन्म जहां प्रभु लीन्हा। रूप बदल तहं सेवा कीन्हा।।

स्वयं विष्णु जब नर तनु धारा। लीन्हेउ अवधपुरी अवतारा।।

तब तुम प्रकट जनकपुर माहीं। सेवा कियो हृदय पुलकाहीं।।

अपनायो तोहि अन्तर्यामी। विश्व विदित त्रिभुवन की स्वामी।।

तुम सब प्रबल शक्ति नहिं आनी। कहं तक महिमा कहौं बखानी।।

मन क्रम वचन करै सेवकाई। मन- इच्छित वांछित फल पाई।।

तजि छल कपट और चतुराई। पूजहिं विविध भांति मन लाई।।

और हाल मैं कहौं बुझाई। जो यह पाठ करे मन लाई।।

ताको कोई कष्ट न होई। मन इच्छित फल पावै फल सोई।।

त्राहि- त्राहि जय दुःख निवारिणी। त्रिविध ताप भव बंधन हारिणि।।

जो यह चालीसा पढ़े और पढ़ावे। इसे ध्यान लगाकर सुने सुनावै।।

ताको कोई न रोग सतावै। पुत्र आदि धन सम्पत्ति पावै।

पुत्र हीन और सम्पत्ति हीना। अन्धा बधिर कोढ़ी अति दीना।।

विप्र बोलाय कै पाठ करावै। शंका दिल में कभी न लावै।।

पाठ करावै दिन चालीसा। ता पर कृपा करैं गौरीसा।।

सुख सम्पत्ति बहुत सी पावै। कमी नहीं काहू की आवै।।

बारह मास करै जो पूजा। तेहि सम धन्य और नहिं दूजा।।

प्रतिदिन पाठ करै मन माहीं। उन सम कोई जग में नाहिं।।

बहु विधि क्या मैं करौं बड़ाई। लेय परीक्षा ध्यान लगाई।।

करि विश्वास करैं व्रत नेमा। होय सिद्ध उपजै उर प्रेमा।।

जय जय जय लक्ष्मी महारानी। सब में व्यापित जो गुण खानी।।

तुम्हरो तेज प्रबल जग माहीं। तुम सम कोउ दयाल कहूं नाहीं।।

मोहि अनाथ की सुधि अब लीजै। संकट काटि भक्ति मोहि दीजे।।

भूल चूक करी क्षमा हमारी। दर्शन दीजै दशा निहारी।।

बिन दरशन व्याकुल अधिकारी। तुमहिं अक्षत दुःख सहते भारी।।

नहिं मोहिं ज्ञान बुद्धि है तन में। सब जानत हो अपने मन में।।

रूप चतुर्भुज करके धारण। कष्ट मोर अब करहु निवारण।।

कहि प्रकार मैं करौं बड़ाई। ज्ञान बुद्धि मोहिं नहिं अधिकाई।।

रामदास अब कहाई पुकारी। करो दूर तुम विपति हमारी।।

।। दोहा ।।

त्राहि त्राहि दुःख हारिणी हरो बेगि सब त्रास।
जयति जयति जय लक्ष्मी करो शत्रुन का नाश।।

रामदास धरि ध्यान नित विनय करत कर जोर।
मातु लक्ष्मी दास पर करहु दया की कोर।।

।। इति लक्ष्मी चालीसा संपूर्णम।।

🙏🙏 श्री महालक्ष्मी नमो नमः 🙏🙏

Laxmi Chalisa Lyrics in Hindi

Aapko Prapt Ho Maa Laxmi Ka Aasheerwaad Aur Pyar,
Aapke Jeevan Me Badhta Rhe Khushiyon Ka Karobaar.

।। Doha ।।

Maatu Lakshmi Kari Kripaa, Karahu Hriday Mein Vaas।
Manokaamanaa Siddh Kari, Puravahu Jan kii Aas।।

।। Chauratha ।।

Sindhusutaa Main Sumiron Tohii, Jnaan Buddhi Vidyaa Dehu Mohii ।
Tum Samaan Nahiin Kou Upakaarii, Sab Vidhi Prabhu Aas Hamaarii ।।

।। Chaupaai ।।

Jai Jai Jagat Janani Jagadambaa, Sab Kii Tumahii Ho Avalambaa

Tumahii Ho Ghat Ghat Kii Vaasii, Bintii Yahii Hamarii Khaasii

Jagajananii Jay Sindhu Kumaarii, Diinan Kii Tum Ho Hitakaarii

Binavon Nitya Tumhe Mahaaraanii, Krapa Karo Jag Janani Bhavaanii

Kehi Vidhi Astuti Karon Tihaarii, Sudhi Lijain Aparaadh Bisaarin

Krapaadrasti Chitabahu Mam Orii, Jagat Janani Binatii Sunu Morii

Jnaan Buddhi Jay Sukh Kii Daataa, Sankat Harahu Hamaare Maataa

Kshiir Sindhu Jab Vishnumathaayo, Chaudah Ratn Sindhu Upajaayo

Tin Ratnan Manh Tum Sukhraasii, Sevaa Kiinh Banin Prabhudasi

Jab Jab Janam Jahaan Prabhu Liinhaa, Ruup Badal Tahan Sevaa Kiinhaa

Svayam Vishnu Jab Nar Tanu Dhaaraa, Liinheu Avadhapurii Avataaraa

Tab Tum Prakati Janakapur Manhin, Sevaa Kiinh Hraday Pulakaahii

Apanaavaa Tohi Antarayaamii, Vishvavidit Tribhuvan Ke Svaamii

Tum Samaprabal Shakti Nahi Aanii, Kahan Lagi Mahimaa Kahaun Bakhaanii

Man Kram Bachan Karai Sevakaaii, Manuvaanchhint Phal Sahajay Paaii

Taji Chhal Kapat Aur Chaturaai, Puujahi Vividh Bhaanti Man Lai

Aur Haal Main Kahahun Bujhaaii, Jo Yah Paath Karai Man Laaii

Taakahan Kouu Kast Na Hoii, Manavaanchhit Phal Paavay Soii

Traahimahi Jay Duhkh Nivaarini, Vividh Tap Bhav Bandhan HaariniZ

Jo Yah Parhen Aur Parhaavay, Dhyan Lagavay Sunay Sunavay

Taakon Kou Na Rog Sataavay, Putr Aadi Dhan Sampati Paavay

Putrahiin Dhan Sampati Hiinaa, Andh Vadhir Korhii Ati Diinaa

Vipr Bulaaii Ken Paath Karaavay, Shaankaa Man Mahan Tanik Na Laavay

Path Karaavay Din Chalisa, Taapar Krapaa Karahin Jagadiishaa

Sukh Sampatti Bahut Sii Paavay, Kamii Nanhin Kaahuu Kii Aavay

Baarah Maash Karen Jo Puujaa, Ta Sam Dhani Aur Nahin Duujaa

Pratidin Paath Karehi Man Manhii, Taasam Jagat Katahun Kou Naahiin

Bahuvidhi Kaa Men Karahun Baraaii, Lehu Pariikshaa Dhyaan Lagaaii

Kari Vishvaas Karay Brat Nemaa, Hoi Siddh Upajay Ati Prema

Jay Jay Jay Lakshmi Mahaaraanii, Sab Mahan Vyaapak Tum Gunkhaanii

Tumhro Tej Praval Jag Maannhin, Tum Sam Kou Dayaalu Kahun Naahiin

Mo Anaath Kii Sudhi Ab Lijay, Sannkat Kaati Bhakti Bar Dijay

Bhuulchuuk Karu Chhimaa Hamaarii, Darasan Dijay Dasaa Nihaarii

Binu Darasan Byaakul Ati Bhaarii, Tumhinn Akshat Paavat Dukh Bhaarii

Nahinn Mohi Jnaan Buddhi Hai Tan Mann, Sab Jaanat Tum Apane Man Men

Roop Chaturbhuj Kari Nij Dhaaran, Kasht Mor Ab Karahu Nivaaran

Kehi Prakaar Mein Karahun Baraaii, Jnaan Buddhi Mohin Nahin Adhikaaii

Uthi Kainn Praatakaray Asanaanaa, Jo Kachu Banay Karay So Daanaa

Ashtami Ko Brat Karay Ju Praanii, Harashi Hraday Puujahi Mahaaraanii

Solah Din Puujaa Vidhi Karahii, Aashvin Krishn Jo Ashtamii Parahii

Takar Sab Chhuutain Dukh Daavaa, So Jan Sukh Sampati Niet Paavaa

।। Doha ।।

Traahi Traahi Dukh Haarini, Harahu Begi Sab Traas
Jayati Jayati Jai Lakshmi, Karahu Shatru Ko Naas ।।

Raamadaas Dhari Dhyaan Nit, Vinay Karat Kar Jor
Maatu Lakshmiidas Pay, Karahu Krapaa Kii Kor ।।

🙏🙏 श्री महालक्ष्मी नमो नमः 🙏🙏

Maa Laxmi Shayari Status & Quotes

माँ लक्ष्मी की पूजा-आराधना में तल्लीन आज होंगे
माँ लक्ष्मी के आशीर्वाद से जीवन के पूरे काज होंगे।।

आपके घर खुशियों की बरसात हो
माँ लक्ष्मी का हमेशा वास हो।।
हर तरह के संकटों का नाश हो।
आपकी जिंदगी का हर पल ख़ास हो।।

पूरा करती जीवन की सारी कमी
जय जय जय हो माँ महालक्ष्मी।।

माँ लक्ष्मी का सिर पर हाथ हो
पूरे परिवार में खुशियों का वास हो।।
घर में सुख-शांती का निवास हो
आपके जीवन में प्रकाश ही प्रकाश हो।।

प्रेम से बोलो माँ लक्ष्मी का जय-जयकार
कभी कम नही होगा धन-धान्य का भण्डार।।

माँ लक्ष्मी को रोम-रोम में बसाना है
माँ की भक्ति में डूब जाना है।।
माँ के चरणों में बीते पूरा जीवन।
ऐसा आशीर्वाद माँ से पाना है।।

माता लक्ष्मी की आप पर और आपके पूरे परिवार पर, कृपा बनी रहें और आपको व आपके पूरे परिवार को अपार धन व वैभव की प्राप्ति हो इसी आशा के साथ हमने अपने इस आर्टिकल Laxmi Chalisa in Hindi में, सभी भक्तजनों को विस्तार से लक्ष्मी चालीसा का पूरा पाठ हिंदी प्रस्तुत किया ताकि हमारे सभी पाठक अपने सुविधानुसार Laxmi Chalisa Lyrics, Laxmi Chalisa Benefits का नियमित रुप से पाठन करके घन व वैभव की प्राप्ति कर सकें और यही हमारा मौलिक लक्ष्य है।

अन्त, हमें, आशा कि, आप सभी  भक्तजनों को हमारा ये प्रयास जरुर पसंद आया होगा जिसके लिए ना केवल आप हमारे इस आर्टिकल Laxmi Chalisa को लाइक करेंगे, शेयर करेंगे बल्कि साथ ही साथ अपने विचार व सुझाव भी कमेंट करके हमें, बतायेंगे ताकि हम, इसी तरह के आर्टिकल आपके लिए लाते रहें।

 

सम्बंधित जानकारी को भी जरूर देखें:

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Advertisement