Connect with us

Jivani

Virat Kohli Biography In Hindi : धुंआधार बल्लेबाज विराट कोहली – जीवन परिचय

Virat Kohli Biography In Hindi

भारत में, क्रिकेट एक धर्म और त्यौहार की तरह मनाया जाता है व इसका बुखार सभी के सर चढ़ कर बोलता है और वर्तमान समय में, इस त्यौहार के देवता अर्थात् भारतीय टीम के कप्तान दायं हाथ के तेज़ – तर्रार और धुंआधार बल्लेबाज विराट कोहली है जो कि, ना केवल टीम के तीनों प्रारुपों के खिलाड़ी है बल्कि कम गेंद में, अधिक रन ठोकने वाले आक्रामक बल्लेबाज हैं।

Virat Kohli ना केवल दुनिया के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज है बल्कि एक उम्दा और क्रिकेट का सम्मान करने वाले एक उदार खिलाड़ी भी है जो कि, वर्तमान समय में, भारतीय टीम के कप्तान है, साल 2003 से Indian Premier League के तहत RCB ( Royal Challengers Bangalore ) के खिलाड़ी और कप्तान दोनो  हैं और साल 2017 में पद्म श्री से भी सम्मानित हो चुके हैं

हम, अपने इस लेख में, आपको धमाकेदार और विपरित परिस्थितियों में टीम की जीत तय करने वाले बल्लेबाज अर्थात् Virat Kohli का पूरा जीवन परिचय अर्थात् Virat Kohli Biography In Hindi : धुंआधार बल्लेबाज विराट कोहली – जीवन परिचय के बारे में, विस्तार से चर्चा करेंगे ताकि मैदान के हर कोण से इन बल्लेबाज के व्यक्तित्व को उभारा जा सकें।

Virat Kohli की जीवनी पर आधारित इस लेख में, किन बिंदुओं पर होगी चर्चा –

  1. Who is Virat Kohli? / विराट कोहली कौन हैं?
  2. Virat Kohli Biography In Hindi? / विराट कोहली का जीवन परिचय?

Who is Virat Kohli?  / विराट कोहली कौन हैं?

Who is Virat Kohli?  / विराट कोहली कौन हैं? ये सवाल अपने आप में, बेईमानी है क्योंकि हम, सभी जानते है कि, वर्तमान समय में, विराट कोहली ही भारतीय क्रिकेट टीम के और साथ ही साथ क्रिकेट प्रेमियों के भगवान हैं  जिनके हर शॉट पर भारतीयों का दिल मंत्र-मुग्ध व प्रफुल्लित हो जाता है।

विराट कोहली ने, वन डे मैचो में, सबसे तेज़ 5000 रन बनायें, सिर्फ 4 सालो के भीतर ही भीतर उन्होंने वन डे मैचो में, 1000 से अधिक रन बनायें और साल 2015 में, आयोजित 20-20 मैचो में, 1000 रन बनाने वाले वे दुनिया के एकमात्र तेज़ – तर्रार खिलाड़ी बन गये हैं।

उपरोक्त सफलताओं के साथ – साथ उन्हें बुरे समय का भी सामना करना पड़ा जिसके दौरान उन्हें अपने पिता की मृत्यु बाद कई आर्थिक समस्याओं का समाना करना पड़ा और एक समय ऐसा भी आया जब वे किराये के घर में, रहने के लिए मजबूर हो गये।

अन्त, विराट कोहली का सफलता ये सफर आसान नहीं था जिसके दौरान उन्हें अनेको समस्याओं का समाना करना पड़ा लेकिन उन्होंने हार नहीं मानी और आज सफलता के शिखर पर मौजूद है। इसीलिए हम, अपने आज के इस लेख में, आपको Virat Kohli Biography In Hindi : धुंआधार बल्लेबाज विराट कोहली – जीवन परिचय के बारे में, विस्तार से बतायेगें।

Virat Kohli Biography In Hindi : धुंआधार बल्लेबाज विराट कोहली – जीवन परिचय

विराट कोहली के सम्पूर्ण जीवन परिचय को आपके सामने प्रस्तुत करने के लिए हम, कुछ बिंदुओ की मदद ले रहे हैं जो कि, इस प्रकार से है –

1. विराट कोहली का जन्म कब, कहां और किसके यहां हुआ था?

गल्ली क्रिकेट में, चौकों – छक्कों की बौछार लगा देने वाले इस रन मशीन खिलाड़ी का जन्म 5 अप्रैल, 1988 को DLF City Phase 1, Block – C गुड़गांव में, रहने वाले प्रेम कोहली ( Criminal Advocate By Profession ) और सरोज कोहली ( House Wife by Profession ) नामक दम्पति के घर में हुआ था।

2. विराट कोहली को किन – किन नामो से जाना जाता है?

उन्हें प्यार से कई अलग-अलग नामों से जाना जाता है जैसे कि – चीकू, रन मशीन और उनका एक बेहद लोकप्रिय विकृत नाम भी हैं जो कि, विरुष्का हैं।

3. विराट के कितने भाई – बहन है?

क्रिकेट के इस उम्दा खिलाड़ी का घर में, ओहदा सबसे छोटा है क्योंकि उनके एक बड़े भाई विकास और एक बड़ी बहन अर्थात् भावना कोहली भी हैं।

4. विराट पढ़ाई लिखाई मे कैसे थे व कैसी रही उनकी शैक्षणिक यात्रा?

विराट ने, अपनी आरम्भिक स्कूली यात्रा दिल्ली मे, स्थिति विशाल भारती पब्लिक स्कूल से शुरु की थी

विराट कोहली के बारे में उनके शिक्षको का कहना था कि, विराट एक होनहार और मेधावी विद्यार्थी है लेकिन क्रिकेट के प्रति अपने पागलपन और समर्पण की वजह से विराट ने केवल 12वीं कक्षा तक ही शिक्षा हासिल की थी।

5. विराट ने, क्रिकेट कोच कौन थे और कहां उन्होंने पहला मैच खेला था?

विराट के क्रिकेट के प्रति जुनून को देखते हुए उनके पिता ने, सिर्फ 9 साल की उम्र मे ही उन्हें पश्चिमी दिल्ली के क्रिकेट अकैडमी में दाखिल कर दिया था जहां उन्होंने राज कुमार शर्मा से क्रिकेट सीखा और साथ ही साथ सुमित डोंगरा नामक अकैडमी में, अपने करियर का पहला मैच खेला था।

6. 3 साल की उम्र मे ही विराट ने किस खिलौने का चयन जीवन भर के लिए कर लिया था?

क्रिकेट के प्रति उनका रुझान बड़े होने बड़ा पैदा नहीं हुआ बल्कि वे बचपन से ही क्रिकेटर के तौर खुद को पहचानते थे जिसकी वजह से सिर्फ 3 साल की आयु में, ही उन्होंने क्रिकेट बेट को अपना खिलौना बना लिया था और पिता जी को गेंदबाजी का न्यौता देकर खुद बल्लेबाजी के शॉट लगाया करते थे।

7. पिता ने, कैसे पहचाने विराट को आगामी भविष्य को?

दरअसल, विराट को बचपन से ही क्रिकेट खेलने का बहुत शौक था जिसका पता उनका पिता प्रेम कोहली को बहुत पहले चल गया था और अपने एक पड़ोसी के सुझाव पर उनके पिता ने, उन्हें एक क्रिकेट अकेडमी में, शामिल कर दिया था और सुमिग डोंगरा में, अपना पहला मैच खेलने के बाद विराट को सेवियर्स कॉन्वेंट में, डाला गया जहां वे पढ़ाई के साथ-साथ अपना क्रिकेट भी खेल सकें।

8. कैसा छूटा पिता का साथ और देखने पड़े बुरे दिन?

सब के जीवन में, सब कुछ अच्छा ही नहीं होता है और यही हुआ था विराट कोहली के साथ भी क्योंकि 18 दिसम्बर, 2016 को उनके पिता प्रेम कोहली का ब्रेन स्ट्रोक की वजह से देहान्त हो गया जिसके बाद उन्हें परिवार की आर्थिक स्थिति भी खराब होती चली गई और विराट को बुरे दिनों का सामना करना पड़ा जिसमें विराट ने, सफलता पाई।

9. विराट कोहली की उम्र व Net Worth क्या है?

ताजा आंकड़ो के मुताबिक विराट कोहली इस समय 40 मिलियन की सम्पत्ति के मालिक है और वहीं विराट कोहली इस समय सिर्फ 31 साल के है।

10. विराट कोहली की रुचियां व गंदी आदतें कौन सी है?

जहां तक बात है विराट कोहली की रुचियों की तो हम, आपको बताना चाहते हैं कि, उन्हें घूमना, डांस करना और वर्कआउट करना बेहद पंसद है लेकिन साथ ही साथ उन्हें शराब पीने की बुरी आदत भी हैं।

11. विराट की शादी को कॉन्फीडेंशल क्यूं कहा जाता है?

बहुत कम लोगो को पता होगा कि, विराट और अनुष्का की प्रेम कहानी कैसे शुरु हुई तो आपको बता दें कि, सबसे पहले विराट और अनुष्का एक शैम्पू के विज्ञापन में, साथ नजर आये थे जिसके बाद दोनो का रिश्ता परवान चढ़ने लगा।

उनके करीबी लोगो का कहना है कि, विराट कोहली ने, बेहद गोपनीय ढंग से भारतीय फिल्म इंडस्ट्री में, धूम मचाने वाले अदाकारा अनुष्का शर्मा से 11 दिसम्बर, 2017 को इटली में, शादी की थी जिसकी जानकारी किसी भी नहीं दी गई थी और शादी में, शामिल सभी लोगो को एग्रीमेंट के तहत चुप कर दिया गया था।

12. विराट के समाजिक कल्याण के लिए किये गये कार्य कौन से हैं?

विराट कोहली ने, सामाजिक कल्याण और विशेषकर गरीब व आर्थिक तौर पर कमजोर बच्चो की उच्च शिक्षा और बेहतर भविष्य के लिए मार्च 2013 में, कोहली फाउंडेशन की शुरुआत की जो कि, मुख्यत बच्चो की शिक्षा, स्वास्थ्य और साथ ही साथ उनके उज्जवल भविष्य के लिए भी जिम्मेदार मानी जाती है।

उपरोक्त सभी बिंदुओ की मदद से हमने अपने सभी क्रिकेट प्रेमियों को विराट कोहली के व्यक्तिगत जीवन के बारे में, जानकारी प्रदान की लेकिन सिक्के का दूसरा पहलू अभी बाकी है क्योंकि अब हम, आपको विराट कोहली के क्रिकेट करियर के बारे में, विस्तार से बतायेगें।

विराट कोहली घरेलू व अन्तर्राष्ट्रीय शानदार क्रिकेट करियर परिचय?

विराट कोहली के शानदार क्रिकेट करियर को आपके सामने प्रस्तुत करने के लिए हम, कुछ बिंदुओं की मदद ले रहे हैं जो कि, इस प्रकार से हैं –

1. विराट कोहली का क्रिकेट आगाज कैसा रहा?

साल 1998 में ही पश्चिमी दिल्ली में क्रिकेट अकैडमी बनी थी और विराट कोहली सिर्फ 9 साल की आयु में ही इसमें शामिल हुए थे जिसके बाद उनके सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन के लिए साल 2004 में Under 17 Delhi Cricket Team का सदस्य बना दिया गया जिसके बाद विराट कोहली को विजय मर्चेंट ट्रॉफी के लिए खेलने का मौका मिला।

इस श्रृंखला के दौरान विराट ने, 4 मैचों में 450 रन से अधिक रन बनायें और 1 मैच में, 250 बनाकर नॉट – आउट रहे थे और आपको बताते चले कि, कुल या सिर्फ 7 मैचो में ही 757 रन बनाकर वर्ल्ड रिकॉर्ड बना दिया था और कुल 84.11 की सट्राइक रेट से धमाकेदार बल्लेबाजी की थी।

2. साल 2006 विराट के क्रिकेट भविष्य के लिए कैसा रहा?

हम, अपने युवा क्रिकेटर्स को बताना चाहते है कि, विराट कोहली को पहली बार साल 2006 में भारत की Under 19 Cricket Team  के लिए चुना गया था जिसका बाद उनका पहला विदेश दौरा इग्लैंड का था जहां पर उन्होंने कुल 3 One Day Internationals में कुल 105 रन बनाये थे और साथ ही साथ टेस्ट मैचो में, 49 की स्ट्राइक रेट से रन बनाये थे।

Under 19 Cricket Team में, रहते हुए ही विराट ने, पाकिस्तान के खिलाफ जबरदस्त खेल का प्रदर्शन किया था जिससे प्रभावित होकर उन्हें Under 19 Cricket Team का स्थायी खिलाड़ी घोषित कर दिया गया था।

3. कैसे हुआ था विराट का सेलेक्शन वन डे मैचो के लिए?

जब विराट कोहली Under 19 Cricket Team के खिलाड़ी थे सभी उनका वर्ल्ड कप मैच मलेशिया में हुआ था जहां पर उन्होंने सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करते हुए भारत की जीत तय की थी और इसी दौरान विराट कोहली को वन डे अर्थात् एक दिवसीय अन्तर्राष्ट्रीय मैचो के लिए चुन लिया गया था।

4. वन डे खिलाड़ी के तौर पर विराट ने, पहला मैच किसके खिलाफ खेला था?

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि, जब विराट कोहली का चयन वन डे इन्टरनेशनल मैचो के लिए हुआ था तब उन्होंने अपना पहला मैच श्री लंका के खिलाफ खेला था जिसमें उम्दा प्रदर्शन के बाद उन्होंने साल 2011 में, होने वाले वर्ल्ड कप के लिए अपनी दावेदारी प्रस्तुत की थी।

5. 2011 का विश्व कप और इन्टरनेशनल मैचो का दौर विराट के लिए कैसे शुरु हुआ?

श्री. लंका के खिलाफ अपने धमाकेदार प्रदर्शन के बाद उन्हें विश्व कप 2011 मे,  खेलने का मौका मिला जिसमें उन्होंने अच्छा प्रदर्शन किया और पूरी टीम के कठोर प्रदर्शन के परिणामस्वरुप भारत ने साल 2011 का विश्व कप जीत लिया।

कहानी यहीं खत्म नहीं हुई क्योंकि इसके बाद विराट ने, अपने कदम अन्तर्राष्ट्रीय क्रिकेट की ओर तेज़ी से बढायें जिसके बाद उन्हें साल 2011 में, भारतीय टेस्ट मैच टीम में, शामिल किया गया।

6. विराट कोहली को ओ.डी.आई मैचो की शुरुआत में, किससे प्रेरणा प्राप्त हुई?

विराट कोहली के लिए ये दौर सुनहरा दौर कहा जा सकता हैं क्योंकि ये वो समय था जब क्रिकेट के भगवान खुद मैच की शुरुआत ओपनर के तौर पर करते थे अर्थात् सचिन तेंदुलकर मैच की शुरुआत करते थे और साथ ही विरेन्द्र सहवाग अपने तेज और आक्रामक बल्लेबाजी से रनों का अम्बार लगाते थे जिसकी वजह से विराट को काफी कुछ सीखने को मिला।

7. किस नंबर पर करते थे बल्लेबाजी विराट कोहली?

ये तो हम और आप सभी जानते है कि, सचिन तेंदुलकर और विरेन्द्र सहवाग के जमाने में, विराट कोहली 6वें नम्बर के खिलाड़ी को तौर पर खेलते थे और उनके बेतरीन प्रदर्शन के कारण उन्हें साल 2012 में, एशिया कप के लिए वाइस कैप्टन के तौर पर चुन लिया गया।

8. विराट का पाकिस्तार के खिलाफ कैसा प्रदर्शन रहा?

विराट का पाकिस्तान के खिलाफ बेहद धमाकेदार प्रदर्शन रहा क्योंकि सिर्फ 148 गेंदो पर ही विराट ने, कुल 183 रन बनाये और उनके इस योगदान के बल पर भारत ने कुल 330 रनो का टारगेट पाकिस्तान के सामने रखा जिसे प्राप्त करना तो दूर वो उसकी आधी दूरी भी तय नहीं कर पाये।

परिणामस्वरुप भारत ने, मैच जीत लिया और साथ ही साथ उन्हें मैन ऑफ मैच भी चुना गया और इसी दौरान उन्हें टीम का कैप्टन भी चुना गया।

उपरोक्त बिंदुओ के आधार पर हमने आपके सामने विराट कोहली के शानदार और धमाकेदार घरेलू व अन्तर्राष्ट्रीय क्रिकेट करियर के बारे में बताया।

विराट का आई.पी.एल करियर कैसा रहा?

विराट कोहली के पूरे आई.पी.एल करियर को प्रस्तुत करने के लिए हम, कुछ बिंदुओँ की मदद ले रहे हैं जो कि, इस प्रकार से हैं –

  1. आपकी जानकारी के लिए हम, आपको बताना चाहते है कि, साल 2008 में विराट कोहली ने Indian Premier League के तहत RCB ( Royal Challengers Bangalore ) के लिए अपना पहल मैच खेला था जिसके लिए आर.सी.बी ने, उन्हें कुल 20 लाख रुपयो में, खरीदा था,
  2. विराट ने, अपने उम्दा और बेहतरीन प्रदर्शन के बल पर साल 2009 में, ( Royal Challengers Bangalore ) को फाइनल तक भी पहुंचाया था,
  3. साल 2014 विराट के लिए उतना सफल नहीं रहा जितनी की उन्होंने आशा की थी क्योंकि इस दौरान वे आई.पी.एल मे, कुछ खास प्रदर्शन ना करते हुए 37 की औसत से ही रन बना पाये थे।
  4. इसी दौरान भारतीय कैप्टान और कैप्टन कूल कहे जाने वाले धोनी ने, टेस्ट मैचो से सन्यास ले लिया था जिसके बाद विराट कोहली को भारतीय टेस्ट टीम कप्तान बनाया गया जिसमें विराट कोहली ने, खुद को भलीं – भांति साबित किया क्योंकि उन्होंने साल 2015 में ही 500 रनो का रिकॉर्ड तोड़ दिया था।
  5. साल 2016 विराट कोहली के लिए काफी अच्छा रहा क्योंकि इस दौरान उन्होंने अपनी टीम के लिए बेहतरीन प्रदर्शन किया जिसके कारण उन्हें साल 2018 में होने वाले आई.पी.एल मैचो के लिए आर.सी.बी की तरफ से कुल 18 करोड़ की कीमत पर खरीदा गया आदि।

उपरोक्त सभी बिंदुओं के आधार पर हमने आपके सामने अन्तर्राष्ट्रीय आई.पी.एल करियर की कुछ झलकियां प्रस्तुत की।

विराट कोहली के रिकॉर्डस व अवार्ड्स की सूची कैसी हैं?

यहां पर हम, आपको व अपने सभी पाठको को विराट कोहली के रिकॉर्ड्स व अवार्ड्स के बार में बताना चाहते हैं जो कि, इस प्रकार से हैं –

विराट कोहली के रिकॉर्ड्स

  1. भारतीम टीम द्धारा साल 2011 का विश्व कप अपने नाम करने के दौरान विराट कोहली ने, शतक लगाया,
  2. विराट कोहली ने, अपनी धमाकेदार बल्लेबाजी के दम पर सिर्फ 22 साल की उम्र मे ही एक दिवसीय मैचो में, 100 रन बनाने वाले तीसरे भारतीय खिलाड़ी बनें,
  3. जयपुर में, आयोजित भारत – ऑस्ट्रेलिया मैच साल 2013 में, कोहली ने, सिर्फ 52 गेंदो पर ही शतक जड़ा,
  4. अन्तर्राष्ट्रीय एक दिसवसीय मैचो में, सबसे तेजी गति से 7500 रन बनाने वाले भारतीय खिलाड़ी का गौरव प्राप्त किया और
  5. साथ ही साथ एक दिवसीय मैचो में 1000, 3000, 4000 और 5000 रन तेजी से बनाने वाले खिलाडियों में, खुद को शामिल किया आदि।

उपरोक्त बिंदुओ की मदद से हमने आपको विराट कोहली के कुछ रिकॉर्ड्स को प्रस्तुत किया।

विराट कोहली को मिले अवार्ड्स

  1. People Choice Award for Favorite Cricketer in 2012,
  2. ICC ODI Player of The Year Award in 2012,
  3. Arjun Award for Cricket in 2013,
  4. CNN – IBN Indian of The Year in 2017,
  5. Padam Shree Award in 2017 and
  6. Sir Garfield Sobers Trophy in 2018 से सम्मानित किया गया।

उपरोक्त विवरणो के आधार पर हमने आपको विराट कोहली के द्धारा स्थापित रिकॉर्ड्स के साथ-साथ उनको मिले अवार्ड्स की सूची भी प्रस्तुत की ताकि आप इस खिलाड़ी से भरपूर मात्रा में, प्रेरणा व प्रोत्साहन प्राप्त कर सकें।

सारांश:

अन्त, निश्चित तौर पर हम, आशा करते है कि, क्रिकेट के इस धमाकेदार बल्लेबाज की जीवनी पर आधारित हमारा ये लेख आपको जरुर पसंद आया होगा जिसमें हमने पूरी कोशिश की है कि, आपको विराट कोहली के सम्पूर्ण जीवन परिचय को प्रस्तुत कर सकें लेकिन हमारा ये आर्टिकल अधूरा है क्योंकि विराट कोहली अभी और कई नये रिकॉर्ड्स तोड़ेंगे और साथ ही साथ कई अवार्ड्स जीतकर क्रिकेट के भाग्य को निखारेंगे।

अन्त, इसलिए हम, अपने इस लेख को यही विराम देते हैं और आपसे आशा करते है कि, आप हमारे इस लेख को पसंद करेंगे, लाइक करेंगे, शेयर करेंगे और साथ ही साथ कमेंट करके अपने विचार और सुझाव हम, तक पहुंचायेगे।

 

इन्हें भी जरूर पढ़े:-

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Hostinger

Advertisement