Connect with us

Article

Steve Jobs Quotes In Hindi: स्टीव जॉब्स का जीवन परिचय..!

Steve Jobs In Hindi

कहते हैं दुनिया मे ऐसी कोई चीज नही है जिसे आप चाह लो और हासिल न कर सको। उसके लिए बस आपको कभी हार ना मानने का संकल्प लेना होगा और बिना कुछ सोचे समझे ईमानदारी से तब तक प्रयास करना है जब तक कि आप उसे हासिल न कर ले। इस दुनिया मे ऐसे ना जाने कितने लोग है जिन्होंने इसी फार्मूले पर चलते हुए असम्भव काम को भी सम्भव कर दिखाया है।

कुछ ऐसा ही उदाहरण पेश किया था स्टीव जॉब्स ने। दुनिया के सबसे अमीर आदमियो की लिस्ट में एक समय में टॉप पर रहने वाले स्टीव जॉब्स ने अपने जुनून और मेहनत से वो कर दिखाया जिसका उन्होंने कभी सपना देखा रहा होगा। हमें उनके जीवन से सीख लेने की जरूरत है। निश्चित तौर पर उनके रास्ते पर चलते हुए हम भी अपने सपनो को हकीकत में तब्दील कर सकते हैं। 

ऐसे में आज हम आपको ना सिर्फ़ स्टीव जॉब्स के जीवन के बारे में बताने वाले हैं बल्कि उनके द्वारा कही गयी कुछ ऐसी प्रेरणादायी बातें बताने वाले हैं जिसे पढ़कर निश्चित रूप से आपको जीवन मे आगे बढ़ने का साहस मिलेगा। स्टीव जॉब्स की कहानी से आपको जानने को मिलेगा की कैसे एक गरीब परिवार में जन्मा हुआ बच्चा सिर्फ़ अपने जुनून और लगन से दुनिया की सबसे बड़ी कंपनी का मालिक बन बैठा था।

स्टीव जॉब्स की कहानी – Biography of Steve Jobs

स्टीवन पॉल जिन्हें हम “स्टीव जॉब्स” के नाम से भी जानते हैं वो एक अमेरिकी बिजनेस टाईकून और आविष्कारक थे। वो “एप्पल” कम्पनी के सह-संस्थापक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी थे। हालाँकि साल 2011 के अगस्त महीने में उन्होने इस पद से त्यागपत्र दे दिया था।

स्टीव जॉब्स का जन्म 24 फरवरी 1955 को केलिफोर्निया शहर में हुआ था। स्टीव जॉब्स का शुरुआती जीवन काफी संघर्षों भरा रहा। उनकी माँ अविवाहित कॉलेज छात्रा थी और इसी कारण वे उन्हें रखना नहीं चाहती थी। बाद में उन्होंने स्टीव जॉब्स को किसी अच्छे परिवार में गोद देने का फैसला किया। स्टीव जॉब्स को कैलिफोर्निया में रहने वाले पॉल और क्लारा जॉब्स ने गोद ले लिया।

ये दोनों ही ज्यादा पढ़े लिखे नहीं थे और बेहद मध्यम वर्गीय परिवार से ताल्लुक रखते थे। उन्होंने ही स्टीव को पाला था। स्टीव के पिता एक मैकेनिक थे, जबकि उनकी मां क्लारा अकाउंटेंट थी। जिन्होंने बाद में एक गैरेज खोल लिया था। लेकिन जॉब्स की दिलचस्पी शुरु से ही इलैक्ट्रॉनिक्स में थी। ऐसे मे अक्सर वो गैरेज में रखे इलैक्ट्रॉनिक के सामान से छेड़छाड़ करते और हमेशा कुछ नया जानने की कोशिश में लगे रहते थे। इस तरह बचपन में ही जॉब्स ने अपने पिता की मदद से इलैक्ट्रॉनिक्स का काफी काम सीख लिया था।

स्टीव जॉब्स के माता-पिता ने किसी तरह उनकी हाईस्कूल तक तो पढ़ाई का खर्चा उठा लिया। लेकिन आगे की पढ़ाई उन्हें पैसे की कमी के चलते छोड़नी पड़ी। हालांकि कॉलेज छोड़ने के बाद भी वे कैलीग्राफी की क्लास जरूर अटेंड करते थे। इस दौरान स्टीव जॉब्स का दोस्ती वोजनियाक से हुई, जिसे भी इनकी तरह ही इलैक्ट्रॉनिक्स और कंप्यूटर में दिलचस्पी थी।

शुरुआती दिनों में उन्होंने बहुत दिक्कतें झेली। स्टीव जॉब्स के पास इतने भी पैसे नहीं थे कि वे अपने पेट की भूख मिटा सकें, कोक की बॉटल बेचकर किसी तरह अपना गुजारा करते थे, और हर संडे कृष्ण मंदिर इसलिए जाते थे कि क्योंकि वहां फ्री में भरपेट खाना मिलता था।

स्टीव जॉब्स के सबसे अच्छे दोस्त वोजनियाक ने एक बार अपने पर्सनल कंप्यूटर का निर्माण किया।  जिसे देख वे बेहद खुश हुए और इसी के बाद जॉब्स को कंप्यूटर बनाने के बिजनेस करने का आइडिया आया। फिर साल 1976 में जॉब्स ने अपने दोस्त के साथ मिलकर अपने पिता के गैरेज में कम्प्यूटर बनाने का काम शुरु कर दिया। इसी गैरेज से “एप्पल” कम्पनी की शुरुआत हुई।

इसके बाद जॉब्स ने पीछे मुड़कर नहीं देखा।। साल 1980 में जॉब्स की एप्पल कंपनी एक प्रतिष्ठित एवं विश्व की जानी-मानी कंपनी बन गई थी। लेकिन अभी उनका संघर्ष खत्म नही हुआ था। स्टीव जॉब्स के जीवन में एक दौर वो भी आया, जब उनकी ही कंपनी ने उन्हें रिजाइन करने के लिए मजबूर किया था।

खुद की कंपनी से बाहर निकाले जाने के बाद भी वे हताश नहीं हुए। बल्कि उन्होंने इस मौके का फायदा उठाते हुए नेक्सट कंप्यूटर के रुप में नई शुरुआत की। इसके बाद 12 अक्टूबर, 1988 को एक इवेंट में नेक्सट कंप्यूटर को लॉन्च किया। हालांकि, नेक्स्ट भी एप्पल की तरह काफी एडवांस था, इसलिए यह महंगा भी बहुत था। जिसके चलते नेक्स्ट को काफी नुकसान पड़ा।

इसके बाद एप्पल ने 1996 में नेक्स्ट कंपनी खरीदने के लिए स्टीव से बात की और यह डील 427 मिलियन डॉलर में फाइनल हुई। इस बार स्टीव जॉब्स ने सीईओ के रुप में एप्पल कंपनी में वापसी की, लेकिन इस दौरान एप्पल कठिन दौर से गुजर रही थी, इसके बाद स्टीव के मार्गदर्शन में कंपनी ने एप्पल आईपॉड म्यूजिक प्लेयर और आई ट्यून्स लॉन्च किए

साल 2007 में एप्पल ने अपना पहला मोबाइल फोन लॉन्च कर मोबाइल की दुनिया में क्रांति ला दी, वहीं इसके बाद एक के बाद एक नए-नए प्रोडक्टर लॉन्च कर एप्पल लगातार सफलता के नए पायदानों को छू रहा है।

स्टीव जॉब्स की उनकी प्रतिष्ठित कंपनी एप्पल के लिए साल 1982 में “मशीन ऑफ द इयर” पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।

आख़िरी समय – Last Time

दुनिया की सबसे बड़ी कंपनी एप्पल के फाउंडर स्टीव जॉब्स को अपनी जिंदगी के आखिरी समय में पेनक्रियाटिक कैंसर जैसी बीमारी से जूझना पड़ा था। कई साल तक इस बीमारी से लड़ने के बाद उन्होंने 2 अक्टूबर, 2011 में कैलीफॉर्निया के पालो ऑल्टो में अपनी अंतिम सांस ली और इस दुनिया को अलविदा कह कर चले गए। उन्होंने अपनी मौत से पहले 24 अगस्त 2011 में टीम कुक को एप्पल के नए सीईओ बनाने की घोषणा की थी।

आज भले ही स्टीव जॉब्स इस दुनिया मे नही हैं, लेकिन फिर भी लाखो लोग उनके जीवन से प्रेरणा लेते हैं। ऐसे में आज हम भी आपको स्टीव जॉब्स इन हिंदी  पोस्ट के माध्यम से स्टीव जॉब्स द्वारा कही गयी कुछ प्रेरणादायक बातों को बताने वाले हैं। जिससे निश्चित रूप से आपको जीवन में आगे बढ़ने की प्रेरणा मिलेगी।

Steve Jobs Quotes In Hindi

तुम्हारा समय सीमित है, इसलिए इसे किसी और की जिंदगी जी कर बिल्कुल भी व्यर्थ मत करो।”  Steve Jobs

 

“शायद मौत ही इस जिंदगी का सबसे बड़ा अविष्कार है।”  Steve Jobs

 

जो इतने पागल होते हैं, उन्हें लगता है कि वो दुनिया बदल सकते हैं, वे अक्सर बदल देते हैं।”  Steve Jobs

 

“गुणवत्ता का मापदंड बनिए.कुछ लोग ऐसे वातावरण के आदि नहीं होते जहाँ उत्कृष्टता की उम्मीद की जाती है।” Steve Jobs

 

दिलचस्प विचारों और नयी प्रौद्योगिकी को कम्पनी में परिवर्तित करना जो सालों तक नयी खोज करती रहे , ये सब करने के लिए बहुत अनुशाशन की आवश्यकता होती है।Steve Jobs

 

“कब्रिस्तान में सबसे अमीर आदमी होना मेरे लिए मायने नहीं रखता. रात में सोते जाते वक़्त कहना आज हमने कुछ शानदार किया है…ये मेरे लिए मायने रखता है।” Steve Jobs

 

अगर आप हर दिन ऐसे जियें जैसे कि वो आपकी ज़िन्दगी का आखिरी दिन है, तो एक दिन आप ज़रूर सही हो जायेंगे।Steve Jobs

 

“महान काम करने का केवल एक ही तरीका है, वो करो जिसे तुम करना पसंद करते हो. अगर तुम्हे अभी तक वो नहीं मिला है, तो खोजते रहो. समझौता मत करो।” Steve Jobs

 

डिज़ाइन सिर्फ यह नहीं है कि चीज कैसी दिखती या महसूस होती है, डिजाइन यह है कि चीज काम कैसे करती है।”  Steve Jobs

 

“यह निश्चय करना की आपको क्या नहीं करना है उतना ही महत्त्वपूर्ण है जितना की यह निश्चय करना की आप को क्या करना है।” Steve Jobs

 

महान कार्ये करने का एक मात्र तरीका यह है की आप अपने काम से प्यार करे।Steve Jobs

 

“आप पहले से ही निर्वस्त्र हैं और कुछ खोने के लिए है ही नहीं। इसलिए ऐसी कोई भी वजह नहीं है कि आप अपने दिल की नहीं सुनें।”  Steve Jobs

 

यदि मैंने अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया पर असफल हो गया तो भी अच्छा है। मैंने अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन तो दिया।Steve Jobs

 

“मुझे यकीन है कि सफल और असफल उद्यमियों में आधा फर्क तो केवल दृढ विश्वास का ही है।”

 

किसी चीज़ को महत्तवपूर्ण होने के लिए दुनिया को बदलने की जरुरत नहीं है बल्कि अपने आप को बदलो।”  Steve Jobs

 

Final Word:-

आशा करते है की आपको हमारी ये पोस्ट जरूर पसन्द आयी होगी, इसके साथ ही अपको स्टीव जॉब्स के इन कोट्स की मदद से जीवन मे जरूर आगे बढ़ने का और कभी हार न मानने का मंत्र मिलेगा।

आपको ये स्टीव जॉब्स कोट्स इन हिंदी कैसा लगा हमें कमेंट कर के जरूर बताएं। इसके साथ ही इस पोस्ट स्टीव जॉब्स कोट्स इन हिंदी को अपने दोस्तों तथा जानने वाले लोगो के साथ जरूर शेयर करें।

 

इन्हें भी जरूर पढ़े:-

Advertisement
1 Comment

1 Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Advertisement