Connect with us

जीवन परिचय

Narendra Modi Biography in Hindi : नरेन्द्र मोदी जीवन परिचय हिंदी में..!

Narendra Modi Biography in Hindi

क्या आप जानते है कि नरेन्द्र मोदी कौन है? Narendra Modi Ka Pura Naam? व मोदी की सफलता की कहानी क्या है यदि आपको नहीं पता है तो हम, अपने इस लेख में, आपको विश्व के सर्वाधिक प्रभावशाली व लोकप्रिय नेता अर्थात् प्रधानमंत्री मोदी की पूरी जानकारी प्रदान करने वाले है।

श्री नरेन्द्र मोदी जी (Narendra Modi) जो की अभी भारत के प्रधानमंत्री है और हर किसी के विकास की आशा है। हम आशा करते है की नरेन्द्र मोदी जी ने जो अच्छे सुशासन और विकास के वादे कियें हैं उन्हें पूरा करने में कामयाब हों । मोदी जी एक महान वक्ता है, उन्हें इस बारें में बहुत अच्छे से पता होता है की वो क्या बोल रहे हैं. हम यंहा पर नरेन्द्र मोदी जी के बारे में 10 रोचक तथ्य जो आप कभि नहि जानते।

1. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी Narendra Modi बचपन से ही एक देशभक्त है, 1965 के भारत- पाक युद्ध के दौरान उन्होंने सैनिकों को जो की रेलवे स्टेशनों पर युद्ध में जा रहे थे , उनकी सेवा करने को अपना मानवीय फर्ज समझकर उनकी सहायता की थी। उन्होंने 1967 के दौरान  गुजरात में बाढ़ से  प्रभावित लोगों की सेवा भी की थी।

2. Narendra Modi जी को कविता लिखने का बड़ा शौक है। मोदी जी गुजराती भाषा में लिखते हैं और उनके द्वारा लिखी कुछ  पुस्तकें प्रकाशित भी हुई  है। इसके साथ साथ उन्हें  भी फोटोग्राफी से भी बहुत प्यार है, उनके  द्वारा क्लिक किये हुए तस्वीरों के अपने संग्रह को दिखाने के लिए उन्होंने एक प्रदर्शनी भी आयोजित की थी।

3. मोदी जी को हमेशा से ही हिंदुत्व दर्शन का बहुत शौक था। जब वे छोटे थे तब वे अकेले हिमालय पर्वत गये थे और वंहा पर योगी साधुओं के साथ 2 साल रुके थे और वंहा से उन्होंने हिंदुत्व के दर्शन को सीखा था।

4. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी Narendra Modi जी  ने जनता के साथ  संबंधों और एक अच्छी छवि प्रबंधन पर अमेरिका में एक तीन महीने का कोर्स भी किया हुआ है। आज मोदी जी दुनिया के सबसे लोकप्रिय नेता के रूप में जाने जाते है ,उनकी इस उनकी सफलता के पीछे ये एक कारण हो सकता है।

5. नरेंद्र मोदी जी कभी भी नशे का सेवन नहीं किया। उन्होंने कभी भी शराब और धूम्रपान नहीं किया है। वे पूरी तरह से शाकाहारी है।

6. नरेंद्र मोदी जी अपने उच्च विज़न के कारण भारत में सबसे लोकप्रिय नेता है । उनके अपने ट्विटर अकाउंट (Twitter Account) पर  40+ लाख से अधिक followers है। सभी भारतीय सेलिब्रिटी के बीच फेसबुक पर सबसे लोकप्रिय भारतीय राजनेता है और Twitter पर सभी indian celebrity में 6 वें सबसे लोकप्रिय celebrity है।

7. हाँ! नरेंद्र मोदी जी (Narendra Modi) की शादी हो चुकी है। जब वे बच्चे थे तब उनके माता-पिता ने उनकी शादी fix कर दी थी, 13 साल की उम्र में उनकी मंगनी हो गयी थी और 18 की उम्र में शादी .उन्होंने अपनी पत्नी के बहुत ही कम समय बिताया और बहुत ही जल्दी अलग अलग हो गये क्यूंकि उन्होंने अपने भ्रमणकारी जीवन को आगे बढ़ाने का फैसला कर लिया।

8. उन्होंने कई Interview में बताया है की वो ज्यादा सोते नहीं है, ज्यादा से ज्यादा से 5 घंटे की नींद लेते है, उनका कहना की वे रोजाना साढ़े 5 बजे उठ जाते हैं चाहे वे रात को किसी भी समय सोये हो।

9. हम सभी Social Network (Twitter) और Technology के लिए नरेंद्र मोदी जी लगाव के बारे में जानते हैं। हर सुबह वे  अपने account या system  में log in करते हैं  और वो सब पढ़ते हैं जो जो उनके बारे में लिखा गया है या जो उनसे related हैं।

10. नरेंद्र मोदी ने अपने पहनावे को मामले में बहुत ज्यादा choosy हैं. और हाल ही में पता चला है की उनके सारे कपड़े एक ही Brand Jade Blue के है जो की एक अहमदाबाद स्थित textile कंपनी है ।

Biography of Narendra Modi

अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप द्धारा 22 दिसम्बर, 2020 को लीजन ऑफ मेरिट से सम्मानित, फरवरी 2019 में सियोल शांति पुरस्कार से सम्मानित व 12 अप्रैल, 2019 को रुस के सर्वोच्च नागरिक सम्मान सेंट ऐणड्र् ऑर्डर से सम्मानित माननीय जन-नायक / लोक-नायक तत्कालीन प्रधानमंत्री श्री. नरेन्द्र दामोदरदास मोदी की जीवनी को समर्पित हमारा ये लेख ना केवल रोचक होने वाला हैं बल्कि ज्ञानपूर्ण भी होने वाला हैं।

मोदी की लोकप्रियता और विश्वप्रियता को देखते हुए हमने अपने इस लेख में, Narendra Modi Biography in Hindi / नरेन्द्र मोदी जीवन परिचय को प्रस्तुत करने वाले है ताकि हमारे सभी पाठक व विद्यार्थी Narendra Modi व उनकी जीवन-यात्रा को करीब से देख पाये और उनसे प्रेरणा व प्रोत्साहन प्राप्त कर पायें।

अंत, हम, इस लेख में, आपको मोदी की जीवन-यात्रा को दर्शाने वाली इन बिंदुओं की जानकारी देंगे –

  1. Narendra Modi Biography in Hindi : नरेन्द्र मोदी जीवन परिचय?
  2. Narendra Modi Education? : नरेन्द्र मोदी की शिक्षा?
  3. Success Story of Narendra Modi in Hindi? : मोदी की सफलता की कहानी हिंदी में?
  4. Narendra Modi Ka Pura Naam? : मोदी का पूरा नाम क्या है?
  5. Narendra Modi Kaun Hai? : नरेन्द्र मोदी कौन है?
  6. How Rich is PM Modi? : मोदी कितने अमीर हैं?
  7. Essay on Narendra Modi in Hindi: नरेंद्र मोदी पर निबंध हिंदी में

संक्षिप्त में, Narendra Modi Kaun Hai?

विश्व प्रिय राजनीतिक नेता और तत्कालीन 15वें भारतीय प्रधानमंत्री के तौर पर श्री. नरेन्द्र मोदी राष्ट्र-विकास के कार्य में, कार्यरत है जिन्होंने ना केवल पूरे भारत में, साल 2014 में मोदी लहर का सृजन किया बल्कि इस लहर की रफ्तार को साल 2019 के लोक-सभा चुनावों में, भी जारी रखा।

कुल मिलाकर हम, कह सकते है कि, प्रधानमंत्री मोदी ना केवल भारत के जन-प्रिय प्रधानमंत्री है बल्कि साथ ही साथ अन्तर्राष्ट्रीय पटल पर विश्व के प्रमुख अति-प्रभावशाली नेताओं की गिनती में, शुमार किये जाते हैं जो कि, भारत व भारतीय जनता के लिए गर्व और सम्मान की बात है।

स्वतंत्रता के बाद, भारत के सबसे पुराने राजनीतिक परिवार अर्थात् कांग्रेस परिवार के चमत्कारी व्यक्तित्व वाले पं. जवाहर लाल नेहरू के प्रभाव को धूमिल करते हुए नरेन्द्र मोदी ने, भारतीय राजनीति में, लोकप्रियता के साथ-साथ विश्व-प्रियता को भी अर्जित कर लिया है जिसकी वजह से आलोचकों द्धारा उन्हें विवाद का विषय बनाया जाने लगा है लेकिन मोदी अपने कर्तव्य-पथ पर अग्रसर है जिसका दूरगामी व अन्तिम परिणाम भारत का विकास ही होगा।

Narendra Modi Biography in Hindi : नरेन्द्र मोदी जीवन परिचय?

देश के और विदेश के सबसे तीव्र, तीक्ष्णता और ऊर्जाप्राप्त प्रधानमंत्री श्री. मोदी की सभी कीर्तियों व जीवन-छवियों को समेट कर एक संतुलित आकृति प्रदान करने के लिए हम, यहां पर कुछ चरित्र-निर्मात्री बिंदुओं की मदद ले रहे हैं जो कि, इस प्रकार से हैं –

1. Narendra Modi Ka Pura Naam? : मोदी का पूरा नाम क्या है?

मोदी का पूरा नाम – नरेन्द्र दामोदरदास मोदी है जो कि, लोकप्रियता के धरातल पर अन्य नामो से भी जाने जाते है जैसे कि – मोदी जीनमो आदि।

2. कैसा रही मोदी की पारिवारीक स्थिति?

मोदी का जन्म 17 सितम्बर, 1950 को वडनगर ग्राम के महेसाना जिले में, हुआ था जो कि, उस समय बॉम्बे राज्य में पड़ता था और वर्तमान में, गुजरात में, स्थित हैं।

मोदी का बचपन आर्थिक तंगहाली की भेंट चढ़ गया क्योंकि मोदी का जन्म आर्थिक रुप से कमजोर और हाशियें पर जीवन बीता रहे दामोदरदास मूलचन्द मोदी जो कि, पिता थे और हीराबेन मोदी जो कि, माता थी के घर में, तीसरी संतान के रुप में, हुआ था जिनकी कुल छह संतानें थी जिसकी वजह से सभी का पर्याप्त मात्रा में, पालन-पोषण हो पाना बेहद मुश्कित था।

इस आर्थिक तंगहाली का दूसरा कारण ये था कि, मोदी का जन्म जिस दम्पति के यहां हुआ था वे मोध – घांची – तेली समुदाय में, शामिल किये जाते थे जिन्हें भारत सरकार द्धारा अन्य पिछड़ा वर्ग घोषित किया गया था जिसका सीधा – सा तात्पर्य था कि, वे वर्ग जो सामाजिक-आर्थिक तौर पर बेहद पिछड़े हुए है और समाज के हाशियें पर अपना जीवन बीता रहे हैं।

3. कैसा रहा मोदी का बचपन?

ऐसा कहा जाता हैं कि, मोदी का बचपन संघर्षपूर्ण रहा क्योंकि बचपन से ही वे अपने पिता के साथ रेलवे स्टेशन पर चाय बेचा करते थे लेकिन वडनगर मे, स्थित एक स्कूल अध्यापक का कहना हैं कि, भले हो मोदी की आर्थिक और पारिवारिक स्थिति बेहतर नहीं थी लेकिन मोदी प्रतिभाशाली और प्रतिभावान था।

स्कूल मास्टर का कहना है कि, मोदी में, शुरु से ही मानसिक चपलता के लक्षण दिखाई देते थे जैसे कि – वाद-विवाद व नाटक प्रतियोगिताओं में बढ़-चढ़कर भाग लेना और नई – नई राजनीतिक कल्याणकारी योजनाओं की रुपरेखा तैयार करना और उन्हें लागू करना आदि।

कुल मिलाकर हम, कह सकते है कि, मोदी का बचपन आर्थिक कठिनाईयों के भेंट चढ़ गया था क्योंकि आर्थिक रुप से कमजोर परिवार को चलाने के लिए मोदी को ना केवल अपने पिता के साथ बल्कि अपने भाईयों के साथ घूम-घूम कर रेलवे स्टेशनों, बस अड्डों और सार्वजनिक स्थानों पर चाय बेचना पड़ता था लेकिन इन सभी विपरित हालतों में मोदी ने कभी हिम्मत नहीं हारी बल्कि बहादुरी से सभी कठिनाईयों का सामना किया और इसी का परीणाम है कि, मोदी आज चाय चलाने के बजाय भारत को चला रहे हैं।

4. मोदी के परिवार मे, कौन-कौन हैं?

मोदी एक कमजोर आर्थिक परिवार से जरुरत आते है लेकिन एक समृद्ध परिवार से आते है जहां उन्हें पर्याप्त मात्रा में, अपना का साथ और विश्वास मिला। वर्तमान में, पिता की मृत्यु हो चुकी है जबकि माता का आर्शीवाद आज भी कायम है और मोदी के सभी भाईयों के नाम इस प्रकार से हैं सोमाभाई मोदी, अमृत मोदी, प्रह्लाद मोदी और पंकज मोदी।

मोदी की बहनो की चर्चा की जाये तो उनकी एकमात्र बहन वसंती बेन हसमुख लाल मोदी का नाम उल्लेखनीय है। मोदी की पत्नी का नाम भी जान लीजिए जो कि, जशोद बेन चिमनलाल मोदी  है और मोदी के संतानों के नाम हम, आपको नहीं बता सकते है क्योंकि मोदी दम्पति की कोई संतान नहीं हुई।

5.  मोदी की सगाई और शादी कब, कैसे और किस उम्र में हुई थी?

मोदी के चाहने वालो को हम, बताना कि, मोदी का विवाह साल 1968 मे, हुआ था वो भी घांची समुदाय के सभी रिति-रिवाजों के अनुसार लेकिन सबसे रोचक बात ये हैं कि, मोदी की सगाई जिस समय हुई थी उस समय मोदी सिर्फ 13 वर्षीय बालक थे और साल 1968 मे, जब उनका विवाह हुआ तब वे मात्र 17 वर्षीय किशोर थे।

6. कम उम्र में हुई इस शादी का परिणाम क्या निकला?

कहा जाता है कि, मोदी ने शादी के बाद अघोषित तलाक ले लिया था लेकिन एक सच्चाई नहीं है क्योंकि मोदी ने, शादी के कुछ समय बाद ही वैराग्य जीवन को अपना लिया था अर्थात् अपनी पत्नी से दूरी बना ली थी।

Financial Express के मुताबिक नव-दम्पति ने, कुछ साल साथ रहकर बिताया लेकिन इसके बाद दोनो ने एक – दूसरे का साथ छोड़ दिया था जिस पर मोदी की जीवनी लेखक ने कहा हैं कि, ’उन दोनो की शादी जरुर हुई लेकिन वे दोनो एक साथ कभी नहीं रहें। शादी के कुछ बरसो बाद नरेन्द्र मोदी ने घर त्याग दिया और एक प्रकार से उनका वैवाहिक जीवन लगभग समाप्त-सा ही हो गया। ’’

7. लम्बें अलगाव के बाद मोदी ने, अपनी पत्नी को कब स्वीकार किया?

हम, सभी जानते हैं कि, मोदी ने सदा अपनी वैवाहिक स्थिति पर चुप्पी बनाये रखी और विशेषकर पिछले 4 विधान सभा चुनावों में। मोदी ने, अपनी वैवाहिक स्थिति को स्वीकार करते हुए कहा कि,  अविवाहित रहने की जानकारी ना देकर उन्होंने कोई पाप नहीं किया है क्योंकि मोदी के अनुसार विवाहित के मुकाबलें एक अविवाहित व्यक्ति कुप्रशासन व भ्रष्टाचार के खिलाफ अधिक मजबूती से लड़ सकता है क्योंकि उसे अपनी पत्नी, परिवार व बाल-बच्चो की चिन्ता नहीं रहती है।

मोदी ने, पहली बार जब चुनावो में, भाग लिया तब एक शपथ पत्र में, मोदी ने, जशोदा बेन को अपनी पत्नी के रुप में, स्वीकार किया और सालों से कायम वैवाहिक स्थिति पर अपनी चुप्पी को तोड़ दिया।

8. Narendra Modi Education? / नरेन्द्र मोदी की शिक्षा?

जैसा कि, हम सभी जानते हैं कि, मोदी के परिवार की आर्थिक स्थिति बेहतर तो दूर सामान्य भी नहीं थी जिसकी वजह से मोदी ने, साल 1967 में, अपनी माध्यमिक शिक्षा पूरी की और उच्च शिक्षा के लिए पारिवारीक समर्थन ना पाकर उन्होंने घर ही छोड़ दिया।

मोदी ने, अपनी उच्च शिक्षा को विराम जरुर दिया लेकिन छोड़ा नहीं क्योंकि साल 1978 मे, मोदी ने, अपनी उच्च शिक्षा को शुरु किया और राजनीति में, मोदी ने, दिल्ली विश्वविघालय व अहमदाबाद में स्थिति गुजरात विश्वविघालय से बी.ए व एम.ए की शिक्षा प्राप्त की।

9. मोदी की रुचियां क्या-क्या हैं?

मोदी की सभी रुचियों को प्रस्तुत करने के लिए हम, इन बिंदुओ की मदद लेंगे जैसे कि –

  • मोदी पूर्ण शाकाहारी हैं अर्थात् शाकाहारी भोजन का ही सेवन करते हैं,
  • मोदी को नियमित तौर पर योग करना बेहद पसंद है,
  • मोदी की साहित्य में बेहद रुचि है और उन्हें पढ़ना भी पसंद है,
  • मोदी श्यामा प्रसाद मुखर्जी व अटल बिहारी वाजपेयी को अपना राजनीतिक गुरु मानते हैं आदि।

10. मोदी की जीवन-शैली कैसी है?

मोदी साधारण तौर पर अपना जीवन जीते है, शाकाहारी भोजन के सेवन को ही प्राथमिकता देते है और एक मितव्ययी, कार्यशीलअन्तर्मुखी जीवन-शैली को अपनाते है जिसकी वजह से उन्हें कई बार फैशन-आइकन भी कहा जाता है।

आपको जानकर हैरानी होगी कि, प्रधानमंत्री मोदी ने, अपनी जीवन-शैली को संतुलित करने के लिए अमेरिका में, Image Management and Public Relation का कुल 3 महिनों का कोर्स भी किया था लेकिन फिर भी उनकी जीवन-शैली पूर्णत शुद्ध व समर्पित कही जा सकती है।

11. How Rich is PM Modi? : मोदी कितने अमीर हैं?

मौजूदा जानकारी व उपलब्ध सूत्रो के मुताबिक प्रधानमंत्री मोदी के पास कुल 2.28 करोड़ रुपयों की सम्पत्ति है जिसे उन्होंने कभी छुपाने की कोशिश नहीं की।

12. मोदी को प्रधानमंत्री के रुप मे, कितना वेतन मिलता है?

हमारे कई पाठक व विद्यार्थी जानना चाहते है कि, मोदी को प्रधानमंत्री के रुप में, कुल कितना वेतन मिलता  तो हम, आपको बता दें कि, मोदी को 1,60,000 रुपयों का मासिक वेतन व अन्य भत्ते प्रदान किये जाते एक प्रधानमंत्री के रुप में।

13. मोदी के पास कुल कितनी कारें है?

यह जानकारी रोचक भी और हैरान करने वाली भी कि, मोदी के नाम पर कोई भी कार पंजीकृत नहीं है अर्थात् मोदी की अपनी कोई कार नहीं है, सादा व साधारण जीवन-शैली का इससे बढ़कर कोई दूसरा प्रमाण नहीं हो सकता हैं।

14. क्या मोदी के भीतर एक लेखक भी रहता है?

हमारे कई पाठकों व मोदी के चाहने वालो का ये प्रश्न है कि, क्या मोदी के भीतर एक लेखक भी रहता है तो हम, आपको बताना चाहते है कि, मोदी के भीतर एक लेखक भी रहता है जो समय-समय पर अलग-अलग कृतियों की रचना करते रहता है जैसे कि –

ज्योतिपुंज, Aboard of Love, प्रेमतीर्थ, केल्वे ते केलावणि, साक्षीभाव व सामजिक समरसता आदि पुस्तको की रचना मोदी के भीतर रहने वाले एक संयमी लेखत के द्धारा की गई है।

15. क्या मोदी सेना में, भी शामिल होना चाहते थे?

हमारे प्रधानमंत्री शुरु से ही देश-सेवा करना चाहते थे जिसके लिए वे सेना भी शामिल होना चाहते थे लेकिन उनकी आर्थिक तंगहाली व टूटी पारिवारीक व्यवस्था ने उन्हें ऐसा नहीं करने दिया।

16. क्या मोदी यायावर प्रकृति के भी थे?

जी हा, मोदी के भीतर एक यात्री भी वास करता था जो उस समय बाहर निकलकर आया जब मोदी ने, आर्थिक कारणो से अपना घर छोड़ दिया था असीमित भारत-यात्रा पर निकल गये थे जिसके दौरान उन्होंने भारत की विविध संस्कृतियों को भी करीब से देखने की कोशिश की।

17. मोदी की वैश्विक छवि क्या है?

मोदी की वैश्विक छवि को पूर्ण रुप से आपके सामने प्रस्तुत करने के लिए हम, कुछ बिंदुओ की मदद लेंगे जो कि, इस प्रकार से हैं –

  • साल 2014 में, फोर्ब्स पत्रिका ने, विश्व के सर्वाधिक प्रभावशाली व शक्तिशाली लोगो की सूच में, मोदी को 14वां स्थान प्रदान किया,
  • साल 2015 में, मोदी को एक सर्वे के मुताबिक विश्व के सर्वाधिक शक्तिशाली लोगो में, 9वां प्रदान किया गया और
  • मोदी को कई राष्ट्रीय व अन्तर्राष्ट्रीय पुरस्कारों से भी सम्मानित किया गया है आदि।

उपरोक्त सभी बिंदुओं की मदद से हमने अपने लोकप्रिय प्रधानमंत्री श्री. मोदी के जीवन परिचय को एक संतुलित रुप देते हुए आपके समक्ष प्रस्तुत करने का प्रयास किया है लेकिन मोदी द्धारा अभी और कीर्तिमान स्थापित किये जाने बाकी है इसलिए अभी ये जीवन परिचय अधूरा है जिसे पूरा करने की जिम्मेदारी हम, समय पर छोड़ देते हैं।

Narendra Modi Political Biography in Hindi : नरेन्द्र मोदी का राजनीतिक जीवन परिचय?

जिस प्रकार प्रधानमंत्री मोदी का जीवन परिचय रोचक और ज्ञानपूर्ण है ठीक उसी प्रकार हमारे विश्व-प्रिय प्रधानमंत्री का राजनीतिक जीवन परिचय भी रोचक और ज्ञानपूर्ण है इसलिए हम, यहां पर बेहद चरणबद्ध तरीके से Narendra Modi Political Biography in Hindi अर्थात् Success Story of Narendra Modi in Hindi? / मोदी की सफलता की कहानी हिंदी में? प्रस्तुत करने के लिए कुछ बिंदुओं की मदद ले रहे हैं जो कि, इस प्रकार से हैं –

“जीतने का मजा तब ही आता है,जब सभी आपके..हारने का इंतजार कर रहे हो!’’ — Narendra Modi

Hindi Quotes by NarendraModi

1. मोदी ने, अपनी राजनीतिक यात्रा कैसे शुरु की?

मोदी ने, अपनी राजनीतिक यात्रा अपने कॉलेज के दिनों से ही शुरु कर दी थी जब उन्होंने स्वयं को पूर्णरुप व समर्पण भाव से आर.एस.एस कार्यकर्ता के रुप में, झोंक दिया था और उन्होंने राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के एक कर्तव्यपरायण प्रचारक के रुप मे, अपनी राजनीतिक यात्रा शुरु की और तत्कालीन राजनीति में, अपनी सक्रियता को भी उजागर किया।

2. बी.जे.पी में, कब शामिल हुए मोदी?

साल 1985 में, मोदी ने, आर.एस.एस से भारतीय जनता पार्टी मे, शामिल होने की इच्छा व्यक्त की जिसके बाद साल 1987 में, मोदी पूर्ण-रुप से भारतीय जनता पार्टी में, शामिल हो गये और पहली बार उन्होंने अहमदाबाद भाजपा चुनावों की रणनीति तय की जिसकी मदद से भाजपा को भारी जीत प्राप्त हुई।

3. बी.जे.पी मे, मोदी की क्या भूमिका रही?

मोदी की सक्रियता और प्रभावी व्यक्तित्व को इसी तथ्य से उजागर किया जा सकता है कि, भारतीय जनता पार्टी के जनाधार व लोकमत को एकत्रित और समर्पित करने में, अपना महत्वपूर्ण योगदान दिया जिसका एक दूसरा प्रमाण ये भी है कि, गुजरात के दिग्गज नेता कहे जाने वाले शंकर सिंह वघेला का जनाधार व लोकमत को स्थायी रुप देना भी मोदी की चपल रणनीति का नतीजा थी।

इस प्रकार हम, सकते है कि, भारतीय जनता पार्टी के जनाधार को स्थायी और सतत बनाने में, मोदी का योगदान अपूर्व है।

4. मोदी की देख-रेख में, कौन-सी दो रथ-यात्रायें आयोजित की गई?

मोदी की राजनीतिक चपलता को रंग लाने में, ज्यादा समय नहीं लगा क्योंकि साल 1990 आते-आते केंद्र में, मिली-जुली सरकारों का निर्माण शुरु हुआ औऱ 1995 के विघान सभा चुनावों में, भारतीय जनता पार्टी द्धारा अपने बल पर 2/3 सीटें प्राप्त करते हुए सरकार का गठन किया।

इस दौरान पूरे भारत में, मोदी की देख-रेख में, कुल 2 रथ-यात्रायें आयोजित की गई जैसे कि – सोमनाथ से लेकर अयोध्या की रथ-यात्रा जिसमें लाल कृष्ण आडवाणी के सारथी के रुप में, मोदी ने कमान संभाली औऱ दूसरी कन्याकुमारी से लेकर कश्मील रथ यात्रा जिसमें मोदी ने, मुरली मनोहर जोशी के सारथी का दायित्व निभाया।

5. कैसे बनें मोदी गुजरात के मुख्यमंत्री?

मोदी अब राजनीति में, खुलकर पेश आने लगे थे जिससे ना केवल उनकी लोकप्रियता में, वृद्धि हुई बल्कि साथ ही साथ उनके प्रभाव में भी जबरदस्त इजाफा हुआ क्योंकि साल 1995 में, अलग-अलग राज्यो में, मोदी को पार्टी-संगठन का कार्य सौंपा गया जिसे मोदी ने, पूरी जिम्मेदारी के साथ सफलतापूर्वक पूरा किया जिसके फलस्वरुप 1996 में, उन्हें तरक्की देते हुए राष्ट्रीय महामंत्री का पद सौंपा गया।

राष्ट्रीय महामंत्री के पद पर मोदी ने, साल 2001 तक जिम्मेदारी पूर्वक काम किया और साल 2001 में, ही भारतीय जनता पार्टी ने, केशुभाई पटेल को गुजरात भूकम्प के दौरान खराब सेहत की वजह से गुजरात के मुख्यमंत्री पद से हटाकर मोदी को इसकी कमान सौंप दी जिसे मोदी ने, बखूबी निभाया।

6. मोदी पर इंदिरा के आपातकाल का क्या प्रभाव पड़ा था?

यहां एक बाद नोट करने वाली है कि, साल 1975 से लेकर 1977 तक इंदिरा गांधी ने पूरे भारत में, संवैधानिक धारा 352 का प्रयोग करते हुए आपातकाल की घोषणा की थी जिसकी वजह से राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ पर सख्ती से प्रतिबंध लगाया गया था।

आर.एस.एस पर लगे इस प्रतिबंध के स्वरुप मोदी को कुछ समय के लिए छुपना पड़ा और ऐसा समय भी आया जब मोदी को फिल्मी अंदाज में, अपना रुप बदलकर यात्रा करनी पड़ी लेकिन मोदी ने, इस आपातकाल का जमकर विरोध किया जिसके फलस्वरुप ना केवल उन्होंने आपातकाल के खिलाफ जनमत एकत्र किया बल्कि साथ ही साथ आपातकाल विरोधी पर्चो का वितरण भी किया जिससे उनके प्रबंधनात्कम व संगठनात्मक कौशल सामने आया।

7. मोदी ने, गुजरात के विकास के लिए किन योजनाओं की शुरुआत की?

हम, अपने सभी पाठकों व सभी गुजरात वासियों को बताना चाहते हैं कि, मोदी ने, गुजरात के विकास के लिए कई कल्याणकारी व विकासकारी योजनाओं की शुरुआत की जैसे कि –

  • राज्य के एकीकृत विकास को समर्पित पंचायामी योजना अर्थात् पंचामृत योजना,
  • राज्य में, उपलब्ध सभी जल-स्रोतो का सतत विकास व जल संरक्षण के लिए जारी सुजलाम- सुफलाम् योजना,
  • राज्य में, होने वाली नव-जात शिशुओं की मृत्यु दर को कम व समाप्त करने के लिए जारी चिरंजीवी योजना,
  • राज्य में, बालिका भ्रूण – हत्या को रोकने व बालिका शिक्षा को समर्पित बेटी बचाओं योजना आदि।

उपरोक्त सभी योजनाओं की मदद से मोदी ने, गुजरात के मुख्यमंत्री पद पह रहते हुए गुजरात का सतत विकास करने के लिए जारी किया।

8. क्या था गुजरात दंगा और कैसे मिली मोदी को हरी झंडी?

मोदी के नाम के साथ गुजरात दंगों की घटना को प्रमुखता से जोड़ा जाता है क्योंकि कुछ गुजरात उप-चुनावों से कुछ समय पहले ही गोधरा में, ट्रेन के एक डिब्बे को आग लगा दी गई थी जिसमें अधिकतर हिंदू सवार थे और इसकी के फलस्वरुप मोदी के उप-चुनाव जीतने के ठीक 3 दिन बाद ही एक साम्प्रदायिक दंगा शुरु हुआ जिसमें कुल 58 लोगो को हत्या की गई और लगभग 900 से 2,000 लोगो को अपनी जान से हाथ घोना पड़ा।

इसके बाद मोदी पर तरह – तरह के सवाल उठाये गये लेकिन आखिरकार साल 2010 में, सुप्रीम कोर्ट ने, मोदी को गुजरात दंगो के लिए हरी झंडी दे दी।

9. मोदी द्धारा साल 2014 की पृष्ठभूमि का निर्माण कैसे किया गया?

हम, आपको बताना चाहेंगे कि, मोदी द्धारा साल 2014 में होने वाले लोकसभा चुनावों की पूरी पृष्ठभूमि उस समय अस्तित्व में, आई जब गोवा में, भाजपा कार्यसमिति द्धारा साल 2014 में, आयोजित होने वाले पूरे लोक सभा चुनावी अभियान की जिम्मेदारी सौंपी गई जिसके फलस्वरुप 13 सितम्बर, 2013 को हुई बोर्ड की आधिकारीक बैठक में, नरेन्द्र मोदी को प्रधानमंत्री पद के लिए एकमात्र व प्रबल उम्मीदवार के रुप में, घोषित किया गया।

10. 2014 के लोक सभा चुनावों में, मोदी की क्या स्थिति थी?

साल 2014 में, होने वाले लोक सभा चुनावो में, मोदी की स्थिति को दर्शाने के लिए हम, कुछ बिंदुओं की मदद लेंगे जो कि, इस प्रकार से हैं –

  • अलग-अलग समाचार पत्रो, पत्रिकाओं व समाचार चैनलों द्धारा आयोजित सर्वे में, मोदी को ही प्रधानमंत्री का प्रबल दावेदार और पहली पंसद के रुप में देखा गया,
  • मोदी को प्रधानमंत्री घोषित करने से भारतीय जनता पार्टी के कुल वोट प्रतिशत में, 5 प्रतिशत वृद्धि होने की संभावना जताई गई आदि।

11. लोक सभा  चुनाव 2014 में, मोदी के मेहनत कैसे रंग लाई?

साल 2014 ना केवल मोदी के लिए बल्कि भारत व भारतीय राजनीति के लिए मील का पत्थर साबित हुआ। साल 2014 के लोक सभा चुनावों को जीतने के लिए मोदी ने, जी-तोड़ मेहनत की जिसके कुछ बिंदु इस प्रकार से हैं –

  • मोदी ने, पूरे भारत की राजनीतिक यात्रा की,
  • मोदी ने, 437 बड़ी चुनावी रैलियों का आयोजन किया,
  • 3-डी सभाओं के साथ-साथ चाय चर्चा को मिलाकर कुल 4,827 कार्यक्रमो का आयोजन किया।

अन्त, मोदी व पूरी भाजपा पार्टी की मेहनत स्वरुप भाजपा ने कुल 282 सींटो पर विजय प्राप्त की।

12. मोदी की साल 2014 के लोक-साभ चुनावों की प्रमुख कीर्ति क्या है?

2014 में हुए लोकसभा चुनावों में, मोदी की सभी कीर्तियां इस प्रकार से हैं:

  • मोदी एक मात्र ऐसे नेता है जो साल 2001 से लेकर 2014 तक अर्थात् कुल 13 सालों तक गुजरात के 14वें मुख्यमंत्री रहे और भारत के भी 14वें प्रधानमंत्री के रुप में, शपथ ली,
  • मोदी ने, 26 मई, 2014 को भारत के 15वें प्रधानमंत्री के रुप में, शपथ ली जिसके तहत कुल 86 मंत्रियो में से 36 मंत्रियों ने हिंदी में जबकि 10 मंत्रियो ने अंग्रेजी में, शपथ लिया,
  • मोदी के शपथ ग्रहण समारोह में, सभी सार्क सदस्यों के प्रमुख राष्ट्राघ्यक्षों को आमंत्रित किया गया,
  • मोदी ने, नृपेंद्र मिश्रा को अपने प्रधान सचिव के तौर पर चुना, कार्य के पहले सप्ताह मे, ही अजित डोभाल को राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार के रुप में, नियुक्त किया गया और आई.ए.एस अधिकारी ए.के. शर्मा व भारतीय वन सेवा अधिकारी भारत लाल को प्रधानमंत्री कार्यालय में, संयुक्त सचिव के रुप में, नियुक्त किया गया आदि।

13. लोक सभा चुनाव 2019 में, मोदी की जीत कैसे हुई?

हम, अपने सभी पाठकों व राजनीतिक विद्यार्थियों को बताना चाहते है कि 13 अक्टूबर, 2019 को हमारे मौजूदा प्रधानमंत्री मोदी ने, पुन- प्रधानमंत्री पद के रुप में, शपथ ली।

मोदी ने, लोकसभा चुनाव 2019 में, अपनी जीत दर्ज करने के लिए मैं चौकीदार हूँ अभियान की शुरुआत की, हिंदू धर्म के प्रमुख पुजारीयों व आचार्यों ने, मोदी समर्थम में मतदान का निवेदन किया वहीं फिल्मी जगत के सितारों ने भी मोदी के समर्थन में, मतदान का निवेदन किया।

इस प्रकार भारतीय राजनीति पर छा चुके मोदी ने, प्रधानमंत्री के रुप में, अपने दूसरे कार्यकाल की शुरुआत की और भारत विकास की यात्रा को नई पहचान दी।

14. मोदी के दूसरे कार्यकाल की शुरुआत कब हुई और कितने मेहमानो को आयोजित किया गया?

साल 2019 के लोक सभा चुनावों को जीतने के बाद मोदी ने 30 मई, 2019 को 15वें प्रधानमंत्री के रुप में, शपथ ली जिसमें प्रमुखता से कुल 8 विदेशी नेताओं को शामिल किया गया।

15. मोदी ने, प्रधानमंत्री के रुप में किन योजनाओं का शुभारम्भ किया?

साल 2014 में देश की कमान अपने हाथो में, लेते हुए मोदी सरकार ने, देश के सतत व अनवरत विकास के लिए अनेको योजनाओं का शुभारम्भ किया। मोदी सरकार द्धारा भारत के सभी वर्गो का सतत व सर्वांगिन विकास करने के लिए जारी योजनाओं की सूची इस प्रकार से हैं –

  • स्वच्छ भारत अभियान:– मोदी ने 2 अक्टूबर, 2014 को इसकी शुरुआत की ताकि भारत को स्वस्छ और स्वस्थ बनाकर राष्ट्रपिता गांधी के स्वच्छ भारत के सपने को पूरा किया जायें।
  • प्रधानमंत्री जनधन योजना:– देश के गरीब और सामाजिक-आर्थिक तौर पर पिछड़े हमारे लोगो बैंकिंग प्रणाली से जोड़ने के लिए देशव्यापी प्रधानमंत्री जन धन योजना का शुभारम्भ किया।
  • प्रधानमंत्री उज्जवला योजना:– देश की तमाम गृहणियों को चूल्हें के जहरीले धुएं से मुक्त करके उनके स्वास्थ्य संरक्षण व महिला उत्थान के लिए मोदी ने, प्रधानमंत्री उज्जवला योजना का शुभारम्भ किया।
  • प्रधानमंत्री मुद्रा योजना:– भारत से बेरोजगारी की समस्या को समाप्त करने के लिए मोदी सरकार ने, प्रधानमंत्री मुद्रा योजना की शुरुआत की ताकि हमारे बेरोजगार युवाओँ को अपना स्व-रोजगार स्थापित करने के लिए बिना गारंटी के वित्तीय सहायता प्रदान की जा सकें।
  • प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना:– देश के अन्नदाताओं का सामाजिक-आर्थिक विकास करने के लिए मोदी सरकार ने, इस योजना का शुभारम्भ किया जिसके तहत हमारे सभी किसानो को सालाना 6,000 रुपयों की वित्तीय सहायता प्रदान की जाती है।
  • प्रधानमंत्री आवास योजना:– मोदी सरकार ने, लक्ष्य तय किया है कि, साल 2022 तक सभी बेघर भारतीयों को अपना घर प्रदान किया जायेगा और इसी लक्ष्य की प्राप्ति के लिए मोदी सरकार ने, प्रधानमंत्री आवास योजना का शुभारम्भ किया है आदि

16. मोदी के किन कामो को बड़े कदम कहा जा सकता हैं?

मोदी ने, प्रधानमंत्री के अपने पहले कार्यकाल में, कुछ बेहद बड़े काम किये जिन्हें मोदी के बड़े कदमों में, शामिल किया जा सकता है जैसे कि –

  • 500 व 1000 के पुराने नोटो को बंद करके नोटबंदी करना – मोदी सरकार ने, अपने पहले प्रधानमंत्री कार्यकाल में 8 नवम्बर, 2016 रात 8 बजें 500 व 1000 के पुरानें नोटो पर रात 12 बजे से पाबंदी लगा दी और उनकी जगह 2000 व 500 के नये नोट जारी किये गये।
  • जी.एस.टी – भारत में, अनेको प्रकार के टैक्सो को समाप्त करके एक एकीकृत टैक्स प्रणाली की शुरुआत करने के लिए मोदी सरकार ने, जी.एस.टी प्रणाली को शुरु किया।
  • पाकिस्तान में, सर्जिकल स्ट्राइक करना – मोदी सरकार ने, साल 2016 में 56 इंच के सीने को प्रमाणित करते हुए उरी हमलें के बाद पाकिस्तान में, घुसकर सर्जिकल स्ट्राइक करने की इजाजत दी जिससे भारतीय रक्षा प्रणाली को नई पहचान मिली।
  • पाकिस्तान पर एयर स्ट्राइक – साल 2016 में किये गये सर्जिकल स्ट्राइक के बाद मोदी सरकार ने, पाकिस्तान में फल-फूल रहें आंतकवादियों को समाप्त करने के लिए साल 2019 में, एयर स्ट्राइक किया।
  • भ्रष्टाचार को समाप्त करने के लिए विशेष जांच दल अर्थात् एस.आई.टी का गठन किया।
  • योजना आयोग की समाप्ति की आधिकारीक घोषणा की और नीति आयोग की स्थापना की।
  • तीन – तलाक पर को गैर-कानूनी घोषित करना।
  • मोदी सरकार ने, 21 जून को अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस की शुरुआत की, सरदार वल्लभ भाई पटेल पर आधारीत स्टैच्यू ऑफ यूनिटी का निर्माण गुजरात में, किया और सैनिकों के सम्मान में, राष्ट्रीय युद्ध स्मारक का निर्माण किया आदि।

आतकंवाद व मुसलमानों पर मोदी के क्या विचार हैं?

यहां पर प्रधानमंत्री मोदी के राजनीतिक तौर पर आतकंवाद व मुसलमानों पर उनके विचारों को उजगार करना अति महत्वपूर्ण है जो कि, इस प्रकार से हैं –

आतकंवाद युद्ध से भी बदतर है। एक आतकंवादी के कोई नियम नहीं होते। एक आतकंवादी तय करता है कि कब, कैसे, कहां और किसको मारना है। भारत ने, युद्धों की तुलना में आतंकी हमलो में अधिक लोगो को खोया है।

इस प्रकार मोदी ने, सदा आतकंवाद के खात्में का समर्थन किया है ताकि ना केवल भारत में बल्कि पूरे विश्व में, शांति की स्थापना हो सकें।

दूसरी तरफ जब हम, मुसलमानों पर मोदी के राजनीतिक विचाओं की बात करते हैं तो हमें, उनकी ये पंक्तियां देखने को मिलती है जैसे कि –

इस प्रकार मोदी ने, अपने सत्ता पदार्पण से लेकर आज तक कई मुसलमान समर्थन नीतियों का शुभारम्भ किया है ताकि हमारे भी मुसलमान भाई-बहन खुद को अल्पसंख्यक समझकर असुरक्षित महसूस ना करें बल्कि भारत विकास की लहर में, अपना विकास भी तय कर सकें।

अंत, हमने ऊपर बताये गये सभी बिंदुओं की मदद से मोदी की राजनीतिक यात्रा को उजागर करने का प्रयास किया है जो कि, अभी जारी है और मोदी की इस राजनीतिक यात्रा से हमें, पूरी आशा है कि, मोदी द्धारा कई अन्य कीर्तिमान स्थापित किये जायेगे और साथ ही साथ अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर भारत एक विश्व महाशक्ति के रुप मे, स्थापित होगा।

सारांश:-

अपने इस रोचक और ज्ञानपूर्ण लेख को यहीं विराम  देते हुए हमने अपने इस लेख में, अपने सभी पाठकों व विद्यार्थियों को लोकप्रिय व विश्वप्रिय नेता प्रधानमंत्री मोदी की पूरी जानकारी Narendra Modi Biography Hindi प्रदान की।

इस लेख में, हमने आपको मोदी के जीवन परिचय से लेकर उनकी राजनीतिक यात्रा की तमाम जानकारी प्रदान की ताकि आप मोदी के व्यक्तित्व को करीब से देख पायें और उनके अथक परिश्रम से प्रेरणा व प्रोत्साहन प्राप्त करके अपने नये और उज्जवल भविष्य का निर्माण कर पायें।

अंत, हम, आपसे उम्मीद करते है कि, आप हमारे लेख को लाइक करेंगे, अधिक से अधिक मात्रा में, सोशल मीडिया के अलग-अलग मंचो पर व अपने जानने वालो के बीच शेयर करेगे और साथ ही साथ लेख में, होने वाले अन्य सुधारों पर अपने सुझाव जरुर देंगे ताकि हम, आपकी मांगो के अनुरुप ही लेख को लिख सकें और आपको एक गुणवत्तापूर्ण लेख प्रदान कर सकें।

 

इन्हें भी जरूर पढ़े:-

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

YourSelf Quotes YouTube

YourSelfQuotes YouTube

Advertisement