Connect with us

Hindi

Best Motivational Stories in Hindi: जीवन को बदल देने वाली सच्ची कहानी।

Motivational Stories in Hindi

इस चुनौतीपूर्ण जीवन में जीवन को पूर्ण बाजीगरी के साथ जीने के लिए जीवन के किसी मोड में की आवश्यकता हमें अवश्य पड़ती है हमने यहां पर कुछ कहानियों में Real life Motivational stories आपके लिए प्रस्तुत किया है, जिससे Student एवं सभी लोगों को जीवन में कुछ करने की प्रेरणा मिलती है दोस्तों यह Short Stories होने के साथ-साथ आपके Depression को भी दूर कर देता है आशा करता हूं आपको Motivational Story in Hindi language अच्छा लगे।

1. समुद्र पर मछली फेंकने की कहानी – Short Motivational Story in Hindi

Motivational Stories in Hindi

एक बार की बात है समुद्र के किनारे एक व्यक्ति ठंडी हवाओं का मजा लेते हुए टहल रहा था, टहलते – टहलते वह व्यक्ति ने अचानक देखा कि एक युवा समुद्र में कुछ मछलियों को फेंक रहा है वह व्यक्ति को यह बात थोड़ी अजीब लगी और वह व्यक्ति ने उस युवा के पास जाकर पूछा कि तुम यह क्या कर रहे हो।

वह व्यक्ति के पूछे जाने पर उस युवा ने बताया कि मैं ज्वार में आए मछलियों को पुनः समुद्र के अंदर फेक रहा हूं ताकि वह मछली जीवित रह सके एवं पानी के लिए तड़प तड़प कर मर ना जाए तब व्यक्ति ने युवा से कहा अरे नादान तुम्हें आसपास दिखाई नहीं देता क्या यहां पर कितने तारे मछलियां किनारे में आकर पड़ी है।

तुम्हें तो इतना पता ही होगा कि यह समुद्र कितना विशाल है और इसका किनारा भी कितना विशाल है तो तुम कैसे सब मछलियों को फेकोगे तब उस युवक ने बड़ा सुंदर जवाब दिया – युवक ने कहा उस मछली को पानी में छोड़ने से आपको कुछ मिले या ना मिले मुझे कुछ मिले या ना मिले लेकिन इस मछली को तो सब कुछ मिल जाएगा।

यह केवल सोच का ही फर्क है दोस्तों सकारात्मक व्यक्ति को लगता है कि मेरे छोटे-छोटे प्रयासों से 1 दिन बड़ा काम हो सकता है लेकिन नकारात्मक व्यक्ति को लगता है कि इन छोटे – छोटे कामों क्या फर्क पड़ने वाला है।

2. जैसी सोच वैसी मौत – Short Motivational Stories in Hindi

Motivational Stories in Hindi

एक शहर में एक खूंखार अपराधी रहता था वह अपराधी ने हजारों बेगुनाहों के जान लिए थे बहुत लंबे समय बाद वह अपराधी पुलिस के हत्थे चढ़ा था वह अपराधी को उस शहर के अदालत ने फांसी की सजा सुनाई।

फांसी की सजा सुनाने के बाद अपराधी यह सोचने लगा कि मैंने ना जाने कितने लोगों की जान ली है शायद मुझे फांसी की सजा मेरे कर्मों के कारण मिली है।

वहां के साइंटिस्ट एवं रिसर्च टीम को यह बात का पता चला तब उन्होंने वहां के न्यायधीश से जाकर एक बात कही वहां के साइंटिस्ट ने न्यायाधीश से कहा कि वह अपराधी की मौत आप फांसी से करने वाले हैं क्यों ना हम उसकी मौत दूसरे तरीके से करें जिससे वह अपराधी को मौत की सजा भी होगी एवं हमारा एक्सपेरिमेंट भी टेस्ट हो जाएगा।

वहां के न्यायाधीश ने एक्सपेरिमेंट के बारे में जानने की सोची दरअसल एक्सपेरिमेंट यह था कि वह अपराधी को फांसी की सजा ना देकर एक जहरीले सांप से कटवाया जाए न्यायाधीश ने सोचा कि अपराधी की मौत किसी भी प्रकार से हो रही है एवं देश के साइंटिस्ट अपना एक्सपेरिमेंट भी कर रहे हैं तो उन्होंने कोई आपत्ति नहीं जताई सांप से कटवाए जाने की बात वह अपराधी को भी बताया गया।

वह अपराधी अब गहरे चिंतन मनन में चले गया और अपने अंदर ही अंदर इतना सहम गया कि मैंने ना जाने कितने लोगों की जान ली है अब परमात्मा शायद मुझे इस तरह ही मौत देना चाहता है अब दूसरे दिन सभी साइंटिस्ट एवं रिसर्च टीम ने वह अपराधी को एक बंद कमरे में अपने साथ लेकर चले गए और वह अपराधी को एक कुर्सी से बांधकर उसके आंखों में काली पट्टी बांध दी।

थोड़ी देर बाद वह अपराधी को 2 पिन चुभाया गया वह अपराधी को लगा कि अब मुझे सांप ने डस लिया है और वह आधे घंटे में मर गया।

दोस्तों अब आपके मन में यह सवाल जरूर आ रहा होगा कि केवल पिन चुभाने भर से कोई कैसे मर सकता है लेकिन वह अपराधी के दिमाग में नेगेटिव थॉट्स इतने घर कर चुके थे कि – मुझे अब मरना है।

मुझे मरने से कोई नहीं बचा सकता जब उसे पिन चुभाया गया तब उसके दिमाग में सिग्नल देना चालू कर दिया कि तुम्हें सांप ने काट लिया है और धीरे-धीरे तुम्हारे शरीर में सांप का जहर फैल रहा है और तुम मर रहे हो यह सोच सोच कर कुछ देर बाद अपराधी मर गया तो देखा दोस्तों, नेगेटिव थॉट्स आप को मार सकती है इसलिए हमेशा मोटिवेट रहे एवं अपने जीवन में किसी भी क्षण पर नेगेटिव थॉट्स आने ना दें।

3. जिंदगी में अगर पैसा कमाना है – Short Motivational Stories in Hindi With Moral

Motivational Stories in Hindi

अगर आपको जिंदगी में कुछ पाना है या किसी मुकाम में पहुंचना है तो जीवन में सिर्फ पैसा ही आपकी मदद कर सकती है आप के मुकाम को पाने में लेकिन आप मेहनत करते हैं लगन से काम करते हैं लेकिन फिर भी आपको क्यों हताशा हाथ लगती है आइए इसे हम कहानी से समझें।

एक बार एक आलसी लड़का जो सचमुच बहुत ज्यादा आलसी था वह एक आश्रम में रहता था वह आश्रम के मालिक को गुरुजी कहा जाता था किसी दिन गुरुजी 1 दिन के लिए बाहर जाने वाले थे।

तभी गुरु जी ने उस आलसी लड़के को अपने पास बुलाया और कहा तुम जीवन में अगर बहुत सारा पैसा कमाना चाहते हो तो मैं तुमको एक काला पत्थर दे रहा हूं यह काला पत्थर चमत्कारी है।

यह पत्थर से तुम किसी भी धातु को स्पर्श करोगे वह सोने का बन जाएगा ऐसा कह कर वह 1 दिन के लिए बाहर चले गए गुरु जी ने कहा था कि मैं जब दूसरा दिन वापस लौटा तो तुमको वह पत्थर मुझे देना होगा।

लड़का बहुत खुश हो गया और लड़का मन ही मन मुस्कुराने लगा और मन में सोचने लगा कि अब मुझे अमीर होने से इस दुनिया में कोई नहीं रोक सकता वह लड़का बहुत ज्यादा आलसी था इसलिए उसने सोचा मेरे पास पूरा 1 दिन है।

और कल शाम तक का टाइम है इसलिए मैं आज थोड़ा आराम कर लेता हूं कल सुबह लोहा खोजकर उसे सोना बनाऊंगा वह सपने देखते देखते सो गया दूसरे दिन उसने सोचा इतना सुबह जाकर क्या करूं मेरे पास तो शाम तक का टाइम है।

एक काम करता हूं अभी खाना खा लेता हूं उसके बाद दोपहर में बाजार जाकर लोहा खरीद आऊंगा ऐसा कहकर वह आलसी लड़का सो गया जब वह गहरी नींद में था तो वह अमीर होने के सपने देख रहा था।

वह इतनी गहरी नींद में था कि कब दोपहर से शाम एवं शाम से रात होने वाली थी तभी वह आलसी लड़का की नींद खुली अब वह भागा भागा बाजार की ओर जा रहा था इसी बीच रास्ते में उसे उसके गुरुजी मिल गया और उसने उससे काला पत्थर मांग लिया।

तो देखा दोस्तो आपने अगर आप किसी चीज को पाने की तमन्ना रखते हो तो आप जब तक वह चीज को पा नहीं लेते तब तक आप आलस बिल्कुल ना करें इससे आप बर्बाद भी हो सकते हो।

4. टूटे दिल को कैसे जोड़े – Short Motivational Stories in Hindi

Motivational Stories in Hindi

एक कॉलेज में राहुल नाम का लड़का रहता था राहुल ने कॉलेज इसी साल जॉइन किया था राहुल बहुत खुशमिजाज था एवं वह अपने कॉलेज जाने से इतना खुश था कि पूछो मत।

राहुल अपने क्लास में हमेशा मस्ती मजाक करता था इसलिए उसके पूरे क्लास वाले भी बहुत खुश रहते थे लेकिन अचानक 1 दिन से राहुल दुखी रहने लगा अब राहुल पिछले 10 – 12 दिनों से दुखी रहने लगा था।

राहुल की खामोशी अब उसके शिक्षकों से भी नहीं देखी गई तभी एक शिक्षक ने राहुल को कॉलेज के स्टाफ रूम में क्लास खत्म होने के बाद बुलाया और राहुल से उसकी खामोशी की बात उस शिक्षक ने पूछा।

शिक्षक के पूछे जाने पर भी राहुल रे ठीक से जवाब नहीं दिया लेकिन शिक्षक ने थोड़ी सख्ती के साथ पूछा तो राहुल ने कहा कि सर दरअसल बात ऐसी है कि – मैं एक लड़की से प्यार करता था वह लड़की मेरा दिल तोड़ कर चली गई अब मुझे कुछ अच्छा नहीं लगता मनो जिंदगी खत्म सी हो गई।

शिक्षक ने राहुल की बात समझी और शिक्षक ने कहा आज कॉलेज खत्म होने के बाद तुम मेरे घर आना अब कॉलेज खत्म हुआ और राहुल शिक्षक के घर गया शिक्षक ने राहुल को अपने घर के अंदर ले जाया और राहुल से कहा कि तुम कुछ पीना चजाहते हो।

और शिक्षक ने कहा कि चलो मैं ही तुम्हारे लिए कुछ बना देता हूं ऐसा कहकर शिक्षक ने नींबू पानी बनाया जिसमें वह शिक्षक ने जानबूझकर नींबू पानी में शक्कर कम और नमक काफी ज्यादा मिला दिया।

जब राहुल ने वह शरबत पिया तो राहुल का मुंह अजीब सा हो गया उसने कहा कि सर यह क्या है यह शरबत में शक्कर कम एवं नमक ज्यादा है तब शिक्षक ने कहां कोई बात नहीं राहुल मैं तुम्हारे लिए यह शरबत को फेंक कर दूसरा बना देता हूं तब राहुल ने कहा सर यह शरबत फेंकने की क्या बात है आप इसमें शक्कर और डाल दीजिए जिससे फिर से यह सरबत की मिठास वापस आ जाएगी।

शिक्षक ने कहा यही बात मैं तुम्हें समझाना चाहता था राहुल की तुम्हारी जिंदगी में अभी नमक ज्यादा है तुम वह नमक को भुलाने के लिए अपनी जिंदगी में मिठास रूपी शक्कर को घोलो शिक्षक ने कहा जो बात बीत गई है उसे याद कर करके दुखी होने से कोई फायदा नहीं होता परिणाम स्वरूप तुम दुखी हो जाते हो इसलिए वह बात को भूल कर फिर से नई दोस्ती करो खुश रहो तुम जल्द ही खुश रहने लगोगे राहुल यह बात समझ गया और कुछ ही दिनों में राहुल अब पहले जैसा हो गया और खुश रहने लगा।

5. पत्थर जमा करते-करते हीरा खो दिया – Short Motivational Stories in Hindi with Moral

Motivational Stories in Hindi

एक शहर में बहुत बड़ा व्यापारी रहता था जिसका नाम धनीराम था धनीराम का एक पुत्र था जिसका कोई संतान नहीं था धनीराम को आप अपने घर में छोटे बच्चे की किलकारी सुनने की तीव्र इच्छा थी इसलिए धनीराम अपने पुत्र से कहने लगा कि मुझे कोई पोता ला दो।

धनीराम कितने अमीर थे कि वहां पर उनके जैसा अमीर कोई नहीं था लेकिन वह अपने घर के वारिस अपने पोते नहीं होने के कारन दुखी रहते थे भगवान ने आखिरकार धनीराम की बात सुन ली और उसके घर एक सुंदर बालक ने जन्म लिया धनीराम बहुत खुश हुआ और उसके पुत्र एवं पुत्रवधू भी बहुत खुश हुए धनीराम इतना खुश था कि उसने पूरे गांव में ऐलान कर दिया कि आज हमारे घर में संध्या के समय एक बहुत बड़ा आयोजन रखा जाएगा उस आयोजन में राजभोग होगा।

जिसमें सभी गांव वालों को आना है गांव वालों के साथ साथ पास के एक गांव में जो छोटा व्यापारी रहता था उसे भी बुलाया गया वह व्यापारी अपने काम में इतना मस्त रहता था कि उसे यहां तक की फुर्सत नहीं रहती थी कि उसने क्या पहना है और क्या खाया लेकिन।

वाह व्यापारी धनीराम को बहुत मानता था वह व्यापारी धनीराम के घर संध्याकालीन राज भोग करने के लिए चला गया जब वह व्यापारी धनीराम के महल पहुंचा तो धनीराम में उसे देखा वह व्यापारी के कपड़े फटे हुए एवं गंदे थे।

धनीराम में कहा मूर्ख तुम्हें पता नहीं आज हमारे घर कितनी बड़ी खुशी आई है और तुम कैसे भिखारी के जैसे आ गए हो क्या तुम्हारे पास कोई ढंग का कपड़ा नहीं है पहले जाओ और कुछ ढंग का कपड़ा पहन कर आओ फिर यहां आना धनीराम में वह छोटे व्यापारी से ऐसा कहा।

छोटा व्यापारी घर चला गया और छोटे व्यापारी ने आपने घर में जाकर आईने के सामने अपने आप को देखा और व्यापारी ने फटे पुराने कपड़े के ऊपर एक सुंदर कोट पहन लिया और पगड़ी भी पहन ली और फिर से व्यापारी धनीराम के महल चले गए।

धनीराम के महल जाकर व्यापारी ने खाने का प्लेट उठाया और उस प्लेट में उस व्यापारी ने थोड़ा सा भोजन लिया और अपने कोट और पगड़ी को खिलाने लगा ऐसा करने से उसके कोर्ट और पगड़ी गंदे हो गए धनीराम ने गुस्से से उससे कहा मूर्ख तुम फिर आ गए हैं और यह क्या हरकत कर रहे हो।

व्यापारी ने कहा धनीराम जी मैं कोट और पगड़ी को भोजन करा रहा हूं धनीराम समझे नहीं और उसने कहा क्या बोल रहे हो तुम तब व्यापारी ने कहा – जब हम किसी खास मौके में खाना रखते हैं भोज रखते हैं तो कुछ लोग यूं ही आते हैं ताकि औपचारिकता निभाया जाए और कुछ लोग दिल से आते हैं कुछ लोग आपके साथ औपचारिकता से नहीं दिल से जुड़े हुए हैं इसलिए कभी भी उन्हें ढेस मत पहुंचाना वरना आपको मालूम नहीं चलेगा कि पत्थर जमा करते-करते कब आपने हीरा को दिया।

Final Words:-

दोस्तों आपको जिंदगी बदल देने वाली कहानी कैसा लगा, दोस्तों मैंने यह स्टोरी में Success, Moral, Depression इत्यादि के साथ-साथ Students को कुछ संदेश दिए हैं यह कहानी आपको Hard Work करना सिखाती है एवं कुछ कहानी ऐसी है। 

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Advertisement