Connect with us

Essay

Beti Bachao Beti Padhao Essay In Hindi: बेटी बचाओ बेटी पढाओ पर निबंध हिंदी में…!

किसी भी पुरुष प्रधान देश में महिलाओ और बेटियों के लिए अपने सम्मान और अवसर बहुत ही आवश्यक हो जाते है । हमें अपने समाज में अधिकतर यही सुनने को मिलता है की बेटिया ज्यादा पढकर क्या करेगी क्योकि इन्हें तो आगे जाकर सिर्फ चूल्हा चौका ही करना है।

इसी प्रकार तरह – तरह की भ्रान्तिया जो हमारे समाज में बहुत बुरी तरह से फैली हुई है , हमें चाहिए की हम अपने समाज को जागरूकता के प्रकाश की ओर ले जाए और सभी को समान अवसर और शिक्षा की स्वतंत्रता दे फिर भले ही वह कोई लड़का हो अथवा लड़की ही क्यों न हो।

सभी को समान शिक्षा तथा अपने विचारो को रखने की पूरी स्वतंत्रता है , आज के इस आर्टिकल में हम बेटी बचाओ “ बेटी पढाओ पर निबंध “  लाये है , आशा करते है की आपको बेटी बचाओ बेटी पढाओ पर निबंध अवश्य ही पसंद आएगा।

प्रस्तावना 

हमारे देश भारत में हमेशा से ही पुरुष प्रमुख की मानसिकता चली आ रही है , यही कारण भी है की जिस देश में किसी वर्ग विशेष को इतनी अधिक अहमियत दी जाती है तब वहा दुसरे वर्ग का कोई ख़ास अस्तित्व बचता ही नही है। हमारा देश भारत जो शरू से ही पुरुष प्रधान देश है उस देश में महिलाओ और बेटियों द्वारा अपनी अलग पहचान कायम करना बहुत ही मुश्किल बात हो जाती है ।

आज बेटियों को समाज में जितना भी सम्मान तथा अवसर मिल रहे है हमारी बहने – बेटिया इससे कई गुना अधिक सम्मान तथा अवसरों की हकदार है। हमें चाहिए की हम सभी को समान अवसर प्रदान करे, हमें किसी भी लिंगभेद अथवा भ्रांतियों से उपर उठकर बेटियों के लिए उनके हितो को ध्यान में रखते हुए फैसले लेने की आवश्यकता है।

 बेटी बचाओ बेटी पढाओ क्या है ? 

श्पष्ट रूप से कहा जाए तो  बेटी बचाओ बेटी पढाओ एक अपनी ही तरह की सरकार द्वारा बेटियों को शिक्षित करने के लिए चलाई जा रही योजना है , जिसके माध्यम से उन सभी बेटियों ( लडकियों ) को शिक्षा से जोड़ना है।

जो किसी भी प्रकार की सामाजिक भ्रांतियों के कारण अपने जीवन में शिक्षा ग्रहण नही कर सकी। यह योजना  बेटी बचाओ बेटी पढाओ मुख्य रूप से समाज के लोगो में जागरूकता फैलाने के लिए हमारे देश के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी द्वारा 22 जनवरी , 2015 को शुरू की गई योजना है।

 बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना का उद्देश्य 

बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना का मुख्य उद्देश्य समाज में बेटियों के बारे फैली हुई सभी तरह की अफवाहों तथा भ्रांतियों को दूर करना तथा समाज को बेटियों को शिक्षा दिलवाने हेतु जागरूक करना है।

इस योजना के तहत कन्या भ्रूण हत्या को समाप्त करना तथा समाज में लडकियों के प्रति जागरूकता फैलाना है। हमारे समाज में हमारी बेटिया शुरू से ही अपनी सुरक्षा को लेकर काफी चिंतित रहती है। इस बात को ध्यान में रखते हुए भी बेटी बचाओ बेटी पढाओ को शुरू किया गया है , जिससे की प्रत्येक लड़की को बेहतर शिक्षा मिल सके तथा वो आगे चलकर खुद के पैरो पर खड़ी हो सके।

 बेटी बचाओ बेटी पढाओ का महत्व 

हम सामान्य रूप से किसी भी काम का महत्त्वपूर्ण केवल तभी मानेंगे  ,जब तक की उस काम से हमारे जीवन में तथा हमारे समाज में किसी भी तरह का सकारात्मक परिवर्तन न हो सके। बेटी बचाओ बेटी पढाओ एक ऐसी ही मुहिम है जो समाज में लडकियों की सुरक्षा तथा उनको शिक्षित करने की जिम्मेदारी लेती है। क्योकि हमारे समाज में एक लड़की जब जन्म लेती है तब से उसके बड़ा होने तक उसे तमाम तरह की मुश्किलों जैसे – समाज में सुरक्षा , लिंग भेदभाव , इत्यादि का सामना करना पड़ता है।

इसलिए  बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना का महत्त्व और भी बढ़ जाता है। क्योकि यही एकमात्र वो मुहिम है, जिसकी वजह से हमारे देश की बेटियों को समाज में उनका असली स्थान तथा सम्मान प्राप्त हो सके। जिससे की हमारे देश में भी हमारे देश की बेटियों और महिलाये सभी के साथ कंधे से कन्धा मिलाकर चल सके।

महिला सशक्तिकरण 

जिस प्रकार समाज के किसी भी वर्ग को मजबूत करना होता है ,तब उस वर्ग के लोगो को दुसरो से बेहतर शिक्षा प्रदान की जाती है। जिससे की उस वर्ग विशेष का उस समाज में सशक्तिकरण हो सके। उसी तरह से बेटी बढाओ बेटी बचाओ भी अपनी ही तरह की विशेष योजना ( मुहिम ) है , जिसके द्वारा समाज में महिलाओ तथा बेटियों के बारे में फैली हुई गलत धारणाओं को समाप्त करना है तथा समाज में बेटियों को उनका सही सम्मान और शिक्षा प्रदान करना है।

आपको भी यह बात अवश्य ही पता होगी की आज से कुछ वर्ष पहले तक कन्याओ को भ्रूण हत्या के द्वारा ही मार दिया जाता था , जिससे को बेटी जो इस दुनिया में आकर बहुत कुछ कर सकती थी। उसे उसकी माता के गर्भ में ही मार दिया जाता था।

आज भी समाज में कई तरह की मान्यताए और भ्रान्तिया फैली हुई जिससे समाज में हमारी बेटियों को तरह -तरह की मुश्किलों का सामना करना पड़ता है। बेटी पढाओ बेटी बचाओ एक योजना है जिससे समाज में महिलाओ तथा बेटियों का शशक्तिकरण किया जा रहा है , जिससे की बेटियों को समाज में सभी की तरह समान अवसर तथा अधिकार प्राप्त हो सके।

योजना के कारण बाल विवाह पर नियंत्रण 

बेटी बचाओ बेटी पढाओ अपनी ही तरह के सबसे अच्छी मुहिम है , जो की समाज में कई तरह की नकारात्मक भ्रांतियों को दूर करती है तथा बेटियों को समाज में सभी की तरह समान अधिकार दिलाती है।

बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना के तहत ही समाज में सबसे बुरी तरह से फैले हुए बाल – विवाह के चलन को समाप्त करना है , जिससे की जिन बेटियों का विवाह बहुत कम उम्र में कर दिया जाता था।बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना उनको अब शिक्षित होने का अवसर प्रदान करती है। इस योजना के तहत समाज के उन निचले तबके के लोगो को जागरूक करना की वो जो भी कर रहे है वो बेटियों के अधिकारों का हनन करता है।

जिसकी वजह से ही किसी भी बेटी का पूर्ण रूप से मानसिक और बौद्धिक विकास नही होता है जिसकी वजह से बेटियों के प्रति समाज में बहुत बड़ी भ्रान्ति और अफवाहे बनना शुरू हो जाती है , जिनकी वजह से सभी महिलाओ और बेटियों को बहुत ही अधिक मुश्किलों का सामना करना पड़ता है।

लेकिन जब से बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना सरकार द्वारा लायी गयी है , उसके बाद से ही समाज के लोगो में जागरूकता लायी जा रही है। जो की बहुत ही अच्छी बात है की लोगो अपनी बेटियों के अधिकारों और उनको शिक्षित करने के प्रति अब जागरूक हो रहे है , देखा जाए तो अभी तक बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना द्वारा समाज को उस तरह से जागरूक किया जा रहा है। जिससे की अब बाल – विवाह पर कुछ रोक तो लगी है उम्मीद है लोगो में और भी जागरूकता फैले और समाज बेटियों के अधिकारों के प्रति जागरूक रहे।

बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना के मुख्य उद्देश

  • लडकियों की आगे की शिक्षा को सुनिश्चित करना।
  • इस योजना का मुख्य उद्देश्य शिक्षा के माध्यम से लड़कियों को सामाजिक और वित्तीय रूप से स्वतंत्र बनाना है।
  • लोगों को इसके प्रति जागरुक करना एवं महिलाओं के लिए कल्याणकारी सेवाएं वितरित करने में सुधार करना है।
  • बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना तहत मुख्य रूप से लड़के एवं लड़कियों के लिंग अनुपात पर जोर दिया गया है। जिससे महिलाओं के साथ हो रहे भेदभाव को रोका जा सके।
  • बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना का उद्देश्य समाज में बेटियों के अस्तित्व को बचाना एवं उनकी सुरक्षा को सुनिश्चित करना है।
  • शिक्षा के साथ – साथ बेटियों को अन्य क्षेत्रों में आगे बढ़ाने तथा उनकी भागीदारी को सुनिश्चित करना बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना का मुख्य लक्ष्य है।

उपसंहार 

भले ही हमारे द्वारा और सरकार द्वारा भी बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना बहुत बड़े स्तर पर चलाई जा रही है , लेकिन फिर भी अभी समाज में कई सारे निचले तबके के लोग मौजूद है जिन्हें अभी तक भी किसी प्रकार की कोई जानकारी ही नही है।बेटियों के लिए शिक्षा का क्या महत्त्व है और किस तरह से हमारी बेटिया भी समाज को दिए गए सभी अवसरों तथा अधिकारों का हक रखती है।

हमें चाहिए की हम अपने समाज और अपने देश के प्रति एक सच्चे नागरिक की जिम्मेदारियों को निभाए और देश के प्रत्येक व्यक्ति को बेटी बचाओ बेटी पढाओ के लिए जागरूक करे और उन्हें समझाये कि किस तरह से यह बेटी बचाओ बेटी पढाओ की मुहिम हमारे समाज और देश के विकास एक नयी गति प्रदान कर सकती है।

क्योकि हमारा देश एक पुरुष प्रधान देश है ,जहा पर स्त्री और बेटियों को बहुत कम ही अहमियत दी जाती है , बल्कि कई प्रकार के अवसरों से भी बेटियों को वंचित ही रखा जाता है। हमें चाहिए की हम अपने समाज में सभी को एक समान दर्जा दे और सभीको शिक्षा का अधिकार प्रदान करे , विगत वर्षो में हमारे देश में ही कन्या भ्रूण हत्या का भी बहुत प्रचलन था।

जिसकी वजह से भी कई बेटियों को अपनी माँ के पेट में ही अपनी जान गवानी पड़ी , हमें बेटी बचाओ बेटी पढाओ के माध्यम से ही लोगो में जागरूकता लाने का एक सच्चा प्रयास करना चाहिए जिससे कि भविष्य में किसी बेटी को कन्या भ्रूण हत्या का शिकार न बनाया जा सके।

हम ऐसे समाज में रहते है जहा लिंग भेद के नाम पर ही सही हमारी बेटियों की शिक्षा और उनके अधिकारों का हनन होता आ रहा है , लेकिन हम तब तक मजबूर थे लेकिन अब हम बिलकुल भी मजबूर नही है। क्योकि हम बेटी बचाओ बेटी बढाओ की मुहिम के सहारे ही सम्पूर्ण समाज को जागरूक कर सकते है , जिससे की आगे चलकर किसी भी बेटी के शिक्षा तथा सामजिक अधिकारों का हनन न हो सके।

भले ही आपकी कोई बेटी न हो अथवा आप स्वयम ही कोई लड़की अथवा महिला ही क्यों न हो , आप भी समाज में बेटियों के खिलाफ फैली गन्दी मानसिकता और भ्रांतियों से अच्छी तरह से वाकिफ है।

इसलिए हमें हमारे देश और समाज के सच्चे नागरिक होने के नाते हमें अपने कर्तव्यो से पीछे नही हटना चाहिए और बेटी बचाओ बेटी पढाओ की मुहिम के माध्यम से देश तथा समाज के कोने – कोने और सभी वर्गो में बेटियों की शिक्षा तथा उनके सामाजिक अधिकारों को उन्हें दिलाने के लिए जागरूकता फैलानी चाहिए। हमें उम्मीद ही नही पूरा विश्वास भी है की आपको हमारा ये आर्टिकल बेटी बचाओ बेटी पढाओ पर निबंध अवश्य ही पसंद आया होगा।

 

हमारे इन बेहतरीन आर्टिकल्स को पढ़ना बिलकुल नही भूले 

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Hostinger

Advertisement